30 दिनों के सफर के बाद चन्द्रयान-2 चांद की कक्षा में करेगा प्रवेश

बेंगलुरू/नगर संवददाता : बेंगलुरु। भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो मंगलवार को सुबह 8.30 से 9.30 बजे के बीच चन्द्रयान-2 के तरल रॉकेट इंजन को दाग कर उसे चांद की कक्षा में पहुंचाने का अभियान पूरा करेगा। लगभग 30 दिनों की यात्रा के बाद भारत का चन्द्रयान-2 अपने लक्ष्य के निकट है। अब इसरो के लिए भी कठिन अग्निपरीक्षा है।
यह इस मिशन के सबसे मुश्किल अभियानों में से एक है, क्योंकि अगर सैटेलाइट चंद्रमा पर उच्च गति वाले वेग से पहुंचता है, तो वह उसे उछाल देगा और ऐसे में वह गहरे अंतरिक्ष में खो जाएगा, लेकिन अगर वह धीमी गति से पहुंचता है तो चंद्रमा का गुरुत्वाकर्षण चंद्रयान 2 को खींच लेगा और वह सतह पर गिर सकता है।

वेग बिलकुल ठीक होना चाहिए और योजना के अनुसार ऑपरेशन के लिए चंद्रमा की बजाय ऊंचाई पर ही गति सटीक होनी चाहिए। एक छोटी सी गलती भी मिशन को नाकाम कर सकती है।
यान के चांद की कक्षा में प्रवेश कर जाने के बाद 2 सितंबर को यह अपने साथ ले जाए गए लैंडर विक्रम को छोड़ देगा। इसके बाद विक्रम लैंडर चांद के 2 चक्कर काटने के बाद 7 सितंबर को चंद्रमा की सतह पर लैंड करेगा। यह सिर्फ चंद्रयान.2 के लिए ही नहीं, बल्कि वैज्ञानिकों के लिए भी परीक्षा की घड़ी होगी।

Share This Post

Post Comment