मैडम गरचा ने खरड़ नगर परिषद ऑफिस में फैले भ्रष्टाचार की विजीलैंस जांच मांगी

pp

मोहाली, जगदीश सिंह : मुख्यमंत्री पंजाब कैप्टन अमरिन्दर सिंह की पूर्व ओ.एस.डी. मैडम लखविन्दर कौर गरचा ने नगर परिषद खरड़ में फैले कथित भ्रष्टाचार संबंधी  बीते दिनों मीडिया में लगीं खबरों को काफी गंभीरता के साथ लिया है। इसी संबंध में मैडम गरचा ने लोकल बॉडीज़ विभाग के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू को एक पत्र लिखकर नगर परिषद ऑफिस खरड़ में फैले भ्रष्टाचार की तुरंत विजीलैंस जांच करवाने की मांग की है। इस पत्र की एक कापी उन्होंने डायरेक्टर विजीलैंस को भी भेजी है। मैडम गरचा ने मंत्री नवजोत सिंह सिद्धु को लिखे पत्र में कहा कि नगर परिषद खरड़ के ऑफिस में कुछ समय पहले मकानों के नकशे पास करने की नकली रसीद सामने आई थी। उससे बाद अब कुछ दिन पहले प्रॉपर्टी टैकस जमां करवाने की नकली रसीद सामने आ चुकी है। ऐसी नकली रसीदों से साबित होता है कि नगर परिषद ऑफिस में नकली रसीदों के द्वारा काफी बड़े स्तर पर धांधली हो रही है और परिषद को लाखों रुपया का चूना लगाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि खरड़ नगर परिषद अधीन आते क्षेत्र में पिछले समय में बड़ी संया में बिल्डिंगें बन चुकी हैं। यह भी पता लगा है कि अगर इन बिल्डिंगों के नकशों की जांच हो तो कई बिल्डिंगें ऐसी निकल सकतीं हैं जिनके मालिकों से नकशे पास करवाने की नकली रसीदों मिलेंगीं। इसके इलावा यह बातें भी चर्चा का विषय हैं कि कई छोटी मोटी कालोनियां ऐसीं हैं जिनके नकशे तो मकान बताकर पास करवाए जा चुके हैं परंतु बाद में वहां कालोनी और फलैटों की उसारी करके नगर परिषद को लाखों रुपया का चूना लगाया गया है। मैडम गरचा ने कहा कि इस बात का पता लगाया जाना चाहिए कि इन नकशों तथा प्रॉपर्टी टैक्सों के भुगतान संबंधी नकली रसीदें आखिर किस अधिकारी व कर्मचारी की मिली भुगत के साथ बनाई जा रही हैं और नगर परिषद खरड़ ऑफिस में किस अधिकारी या कर्मचारी की मिली भुगत के साथ उन रसीदों को मंजूर किया जा रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि खरड़ नगर परिषद अधीन आते क्षेत्रों में कई नाजायज कालोनियां ऐसीं बन चुकी हैं जिनका सी.एल.यू. करवाए बगैर ही नकशे पास कर दिए गए हैं। इस प्रकार इन जमीनों के सी.एल.यू. से होने वाली आमदन का पैसा जो शहर के विकास पर लगना था, वह भू-माफिया के साथ सबंधित लोगों की जेब में चला गया है। मैडम गरचा ने मांग की कि परिषद आफिस खरड़ में फैले इस भ्रष्टाचार की उच्च स्तरीय विजीलैंस जांच करवाई जाये।

Share This Post

Post Comment