14 वर्षों के इंतज़ार के बाद राजधानी में ‘सिग्नेचर ब्रिज’ का उद्घाटन

11--

नई दिल्ली, जयदेव पटेल : 14 साल का लम्बा इंतजार करने के बाद आखिर रविवार को दिल्लीवालों को आख़िरकार ‘सिग्नेचर ब्रिज’ की सौगात मिल जाएगी। वजीराबाद में यमुना नदी पर बने 8 लेन वाले इस पुल का उद्घाटन दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के द्वारा किया जायेगा। वहीं सोमवार से इस पर वाहन फर्राटा भरते दिखाई देंगे। ब्रिज के बनने से जनता को ट्रैफिक का सामना नहीं करना पड़ेगा। सिग्नेचर ब्रिज उत्तर-पूर्वी दिल्ली, गाजियाबाद और बाहरी दिल्ली को जोड़ेगा। सिग्नेचर ब्रिज की देखभाल के लिए ब्रिज हेल्थ मॉनीटरिंग सिस्टम तैयार भी किया गया है। 575 मीटर लंबे इस ब्रिज की सफाई भी यूरोप से आईं हाईटेक मशीनों द्वारा की जाएगी। हेल्थ मॉनीटरिंग सिस्टम के तहत ब्रिज में 104 सेंसर लगाए गए हैं। इनमें से 10 सेंसर ब्रिज की केबल में और बाकी के 5 सेंसर फाउंडेशन में लगाए गए हैं, आपको बता दें कि ब्रिज के अन्य हिस्सों में भी सेंसर लगाए गए हैं। इन सेंसर के द्वारा ब्रिज की 24 घंटे निगरानी की जा सकेगी। ब्रिज में कहीं भी कोई क्षति दिखेगी, तो सेंसर इसकी जानकारी तुरंत देंगे। ब्रिज के सभी सेंसर को एक कंट्रोल रूम से जोड़ा गया है और इसे ब्रिज के शुरू होने से कुछ देर पहले बनाया गया है। ब्रिज के उद्घाटन के बाद सभी सेंसर को कंट्रोल रूम से जोड़ दिया जाएगा। कंट्रोल रूम में 24 घंटे ब्रिज की मॉनीटरिंग होगी। बता दें कि 1998 में यमुना में बस गिरने से 22 छात्रों की मौत के बाद सिग्नेचर ब्रिज बनाने का फैसला लिया गया था। बुलावा न देने पर भी समर्थकों सहित पहुंचेंगे भाजपा सांसद सिग्नेचर ब्रिज के उद्घाटन समारोह में घमासान के आसार बन गए हैं। दरअसल, दिल्ली सरकार ने क्षेत्र के भाजपा सांसद मनोज तिवारी को समारोह में आमंत्रित नहीं किया। इससे खफा तिवारी ने अपने समर्थकों सहित हर हाल में समारोह में जाने का ऐलान किया है। 154 मीटर है ब्रिज की ऊंचाई, 575 मीटर लंबा है और 35.2 मीटर चौड़ा है ब्रिज, 1,518 करोड़ की लागत से 14 साल में तैयार हुआ।

Share This Post

Post Comment