अक्षय तृतीया का महत्व

777दिल्ली, राहुल मालपानी : आगामी बुधवार, दिनांक 18/04/2018 (अक्षय तृतीया) को भगवान विष्णु के ‘आवेशावतार’ तथा भगवान शिव के परमभक्त, प्रभु श्री परशुराम के जन्मोत्सव का शुभ दिवस है। आप सभी भाई-बहन व बुजुर्ग इस दिन परिवार सहित प्रभु परशुराम की आराधना कर उनका आर्शीवाद ग्रहण करें तथा बच्चों को उनकी कथा अथवा महिमा से अवश्य अवगत कराएं। निवेदन: संभव हो तो अपने सामर्थ्य अनुसार मंदिर में दान-दक्षिणा अवश्य करें। अक्षय तृतीया वह तिथि है जिसमें सौभाग्य और शुभ फल का कभी क्षय नहीं होता। इस दिन होने वाले कार्य मनुष्य के जीवन को कभी न खत्म होने वाले शुभ फल प्रदान करते हैं। इसलिए यह कहा जाता है कि इस दिन मनुष्य जीतने पर भी पुण्य कर्म तथा दान करता है उसे, उसका शुभ फल अधिक मात्रा में मिलता है और शुभ फल का प्रभाव कभी खत्म नहीं होता है। हार्दिक आभार एवं मंगलकामनाएँ जय श्री परशुराम।

Share This Post

Post Comment