एक बाप ने अपनी ही बेटी की इज्जत को किया तबाह…फिर…

बेल्लारी, जोगाराम चौधरी : आखिर वो कौन सी सोच है जो कभी राह चलती हुई महिलाओं/युवतियों को अपनी हवस का शिकार बना लेती है। अपनी हवस की भूख में उनकी इज्जत ओर उनकी आबरू को छींन लिया जाता है? ये बहसी, दुराचारी सोच अपनी हवस की भूख में नाबालिग लडकियों तक को नहीं छोडती है। यहाँ तक कि कभी कभी ये दुराचारी सोच का शिकार अपनी सगी बेटी तक को बना लेती है तथा मानवता को कलंकित करते हुए रिश्तों की मर्यादा की धज्जियाँ उड़ा देती है। ये सोच कर ही इंसान का सिर शर्म से झुक जाता है कि कि कोई बाप भी अपनी बेटी का बलात्कार कर सकता है। लेकिन उत्तर प्रदेश के अमरोहा में मानवता को कलंकित करते हुए रिश्तों को तार तार करने वाली एक घटना सामने आयी है जहाँ एक बाप ने अपनी ही सगी बेटी के बलात्कार करके उसके जीवन को रौंद दिया। खबर के मुताबिक़ उत्तर प्रदेश के अमरोहा जनपद के डिडौली कोतवाली इलाके के जोया कस्बा के निवासी सारून अहमद ने अपनी बेटी के साथ दुष्कर्म किया है। बताया गया है कि सरून की बीबी अपने छोटे बच्चों को लेकर के अपने मायके गयी हुई थी लेकिन अपनी पति सारून अहमद की देखभाल के लिए वह अपनी एक नाबालिग बेटी को घर पर ही छोड़ गयी थी। बताया गया है कि रात्रि को बच्ची ने अपने अब्बू सारून को खाना बनाकर खिलाया तथा फिर वह सो गयी। लेकिन इसके बाद सारून ने रात्रि में अपनी सगी के बेटी के बिस्तर पर जाकर उसके साथ बलात्कार किया तथा अपने हवस की भूख में अपनी ही बच्ची के बचपन को रौंद दिया। उस मासूम को नहीं पता था कि जिस बाप को वहा खाना खिला रही है, रात्रि को उसका वही अब्बू उसकी जिन्दगी को तबाह करके रख देगा। सुबह जब इस बात की जानकारी पड़ोसियों को मिली तो सब लोगों ने सारून को घेर लिया तथा बुरी तरह से उसकी पिटाई की। पड़ोसियों ने सरून की ये हालात कर दी कि वह खड़े होने की स्थिति में न रहा जिसके बाद पुलिस बुलाकर दुराचारी सरून को पुलिस के हवाले कर दिया।

Share This Post

Post Comment