होटल में छापा मारकर आपत्तिजनक हालत में पकड़े 10 जोड़े

गाजियाबाद, उत्तर प्रदेश/नगर संवाददाताः नगर कोतवाली के बजरिया में चल रहे सात होटलों पर मंगलवार को पुलिस व प्रशासन की टीम ने छापा मारकर 10 जोड़ों को आपत्तिजनक हालत में पकड़ा है। पुलिस ने एक होटल के मालिक को भी गिरफ्तार किया है। सीओ प्रथम का कहना है अनैतिक देह व्यापार अधिनियम के तहत केस दर्ज कर मामले में कार्रवाई की जा रही है। साथ ही फरार आरोपियों की भी तलाश की जाएगी। सीओ प्रथम मनीषा सिंह ने बताया कि बीते कुछ दिनों से लगातार बजरिया के कुछ होटलों में देह व्यापार की सूचना मिल रही थी। मंगलवार सुबह सिटी मजिस्ट्रेट प्रदीप दुबे के नेतृत्व में एसएचओ नगर कोतवाली गजेंद्र सिंह और एएचटीयू थाने की एसएचओ लक्ष्मी चौहान ने पुलिस बल के साथ होटलों पर छापामारी की। गोपाल प्लाजा होटल से पुलिस ने आठ जोड़े पकड़े। वहीं स्टार गेस्ट हाउस, अग्रवाल लॉज, रॉयल ¨कग, आरआर लॉज, स्टार ¨कग और स्वीट नाइट होटल में भी छापेमारी की। सीओ ने बताया कि स्टार प्लाजा होटल और अग्रवाल लॉज से 1-1 जोड़े को पकड़ा गया है। पुलिस ने स्टार गेस्ट हाउस के मालिक बिलाल को भी मौके से गिरफ्तार किया है। सीओ के मुताबिक सभी के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। सीओ ने बताया कि साल 2015 में भी होटल गोपाल प्लाजा के दो फ्लोर सील किए गए थे। बावजूद इसके होटल के अन्य फ्लोर पर देह व्यापार का धंधा जारी था। मंगलवार को जिन होटलों से जोड़े बरामद हुए हैं, सभी को सील कर दिया है। इनमें गोपाल प्लाजा, स्टार प्लाजा होटल और अग्रवाल लॉज शामिल हैं। पुलिस ने 20 मार्च 2017 को होटल देवेंद्र और आर्यदीप पर छापेमारी कर 84 जोड़ों को वहां से आपत्तिजनक हालत में पकड़ा था। होटल के मालिक देवेंद्र समेत अन्य को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेजा था। हाई कोर्ट के आदेश पर दोनों होटलों को सील कर दिया गया था। सीओ की मानें तो होटल देवेंद्र के मालिक देवेंद्र ने जमानत पर छूटने के बाद देह व्यापार का धंधा दोबारा शुरू कर दिया था। इसके लिए उसने होटल गोपाल प्लाजा को किराए पर लिया था। इसका एग्रीमेंट देवेंद्र ने भाई रविंद्र व भतीजे नीरज के नाम कराया था। पुलिस का कहना है कि बिलाल और देवेंद्र समेत चारों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर पुलिस फरार तीनों आरोपियों की तलाश में जुट गई है। पुलिस ने जिस्मफरोशी करने के आरोप में भले ही 10 जोड़ों को होटलों से पकड़ा हो, लेकिन स्थानीय लोगों में अब भी नाराजगी है। लोगों का कहना है कि पुलिस और प्रशासन की टीम के पहुंचने से 15 मिनट पहले ही होटल स्वीट नाइट से दर्जन भर जोड़े अचानक निकलकर भागे थे। सूत्रों का कहना है कि होटलों से सांठगांठ रखने वाले एक पुलिस अधिकारी के चालक ने ही रेड की सूचना देकर स्वीट नाइट को खाली कराया था। लोगों का कहना है कि छापामारी सिर्फ नाम के लिए ही हुई है। वहीं पुलिस अधिकारियों ने इससे इनकार किया है।

Share This Post

Post Comment