वकील की ड्रेस में एक लाख के ईनामी का मुजफ्फरनगर में सरेंडर

मुजफ्फरनगर, उत्तर प्रदेश/नगर संवाददाताः पुलिस के खौफ का असर अपराधियों पर देखने को मिल रहा है। कभी लोगों में दहशत कायम करने वाले एक लाख रुपए के ईनामी बदमाश रुचिन जाट ने आज यहां कोर्ट में वकीलों की ड्रेस में आत्मसमर्पण कर दिया। मुजफ्फरनगर में रुचिन जिला जेल के बाहर जेल आरक्षी चुन्नी लाल और मंसूरपुर में सिपाही नरेंद्र की हत्या जैसे अपराधों में शामिल रहा है। इसके बाद वह गाजियाबाद में पुलिस की अभिरक्षा से फरार हो गया था। पुलिस लंबे समय से उसकी तलाश कर रही थी। रुचिन जाट पर मुजफ्फरनगर और गाजियाबाद जिलों से 50-50 हजार के ईनाम घोषित है। मुजफ्फरनगर के छपार थाना इलाके के दतियाना गांव का निवासी रुचिन पहले पहलवान था। उसने अपने पिता हरेंद्र सिंह के साथ गांव की रंजिश में प्रधान करण सिंह की हत्या की। इसके बाद उसने अपराध जगत में कदम रखा। इसके बाद रुचिन ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और विक्की त्यागी गैंग में शामिल हो गया। विक्की गैंग में रहते हुए पुलिस कस्टडी में ही उसने 10 अक्टूबर 2014 को एके 47 से रोबिन त्यागी पर मंसूरपुर में ही हमला किया था। जिसमे एक सिपाही नरेंद्र की गोलियां लगने से मौत हो गयी थी। यहां पर जिला जेल के बाहर जेल आरक्षी चुन्नी लाल की हत्या में भी रुचिन शामिल रहा है। रुचिन ने आज वकील की ड्रेस में गुपचुप ढंग से अदालत में आत्म समर्पण कर दिया।

Share This Post

Post Comment