दीपावली एक आध्यात्मिक सन्देश

Shri Ashutosh Maharaj Ji (5)

नई दिल्ली/अरविंद कुमार यादवः यूं तो सूर्योदय के साथ प्रारम्भ होने वाला प्रत्येक दिन मानव सभ्यता की महान गाथा का एक स्वर्णिम अध्याय बन कर आता है। परन्तु कुछ दिन अपने भीतर ऐसे महत्वपूर्ण सन्देश लिये उदित होते हैं कि मानव समाज युग-युगांतरों तक उन्हें भुला नहीं पाता। ऐसे ही अविस्मरणीय दिनों को त्योहारों अथवा पर्वों के रूप में मनाया जाता है। विशेषतः भारत पर्वों के सम्बन्ध में सर्वाधिक समृद्ध देश है। पर्व भारतीय संस्कृति के प्राण हैं। जीवनाधार एवं पोषक हैं। क्योंकि भारतीय पर्वों में वह ऊर्जा है, जो संस्कार विहीन होती मानव-जाति को पुनः अनुप्राणित करने की क्षमता रखती है। इन सांस्कृतिक पर्वों की श्रृंखला में मुकुटमणि स्थान पर है कार्तिक मास की अमावस्या को मनाया जाने वाला दृ ‘दीपावली पर्व’। इस पर्व का नाम ही इसकी उज्ज्वलता एवं ज्योतिर्मयता को प्रकट करता है। ‘दीप’ अर्थात दीया या दीपक। ‘अवली’ अर्थात पंक्तिद्य इस पर्व पर जगमगाती दीप मालिकाएँ एक ही सन्देश देती हैं दृ अपने आंतरिक तमस को दूर करो। टिमटिमाते दीये हमसे कहते हैं कि अंतर्मन में, चाहे कैसी भी घोर अमावस्या क्यों न हो, प्रभु-ज्ञान की ज्योति प्रज्वलित कर लो और हमारे समान प्रकाशित हो उठोद्य अपनी सारी कुत्सित और तामसिक प्रवृत्तियों को इस अलौकिक प्रकाश में विलीन कर डालो। अतः यह पर्व कोई वैभव-प्रदर्शन का उत्सव नहीं। भव्य संदेशों का वाहक है। उत्तर भारत में यह पर्व प्रमुखतः श्री राम-सीता के अयोध्या में पुनरागमन की ख़ुशी में मनाया जाता है। त्रेता युग का यह सम्पूर्ण घटनाक्रम अपने भीतर एक अलौकिक सन्देश लिये हुए है। अध्यात्मिक दृष्टिकोण के अनुसार सीता आत्मा का प्रतीक है। वह मन रूपी रावण की देह रूपी लंका में कैद है। मन में व्याप्त वासनाएँ व विकार आसुरी शक्तियों के प्रतीक हैं। ये तरह-तरह की यातनाएँ व प्रलोभन देकर आत्मा को निरंतर पीड़ित कर रहे हैं। ठीक उसी प्रकार जैसे सीता जी को रावण की राक्षसी सेविकाएँ उत्पीड़ित करती थीं। ज्ञातव्य है कि, ऐसे में श्री हनुमान रामदूत बनकर अशोक वाटिका में उनके पास पहुँचे। हरण के समय, सीता जी रावण का साधु वेश देखकर एक बार धोखा खा चुकी थीं। इसलिए इस बार उन्होंने तत्क्षण ही हनुमान जी पर विश्वास नहीं किया। उनसे उनके रामदूत होने का प्रमाण माँगा। हनुमान जी ने प्रमाण रूप में प्रभु श्री राम की मुद्रिका उनके सामने प्रस्तुत की। इस मुद्रिका में सीता जी ने प्रभु राम के साक्षात् दर्शन कियें। दर्शनोपरांत ही उन्होंने हनुमान जी को प्रभु राम के दूत के रूप में स्वीकार किया। प्रभु के अलौकिक दर्शन ने निराश सीता जी में एक अटूट विश्वास का संचार कर दिया कि अब शीघ्र ही उन्हें प्रभु मिलन का आनंद प्राप्त होगा। यही विश्वास, यही आश्वासन प्रत्येक युग में, प्रत्येक जीवात्मा अपने लिए चाहती है। मन रूपी रावण के शासन से बंधन मुक्त होने के लिए हमारी आत्मा को भी ऐसे सतगुरु की नितांत आवश्यकता है, जो हमें बंधनों से मुक्त कर सके। यह कथा एक और महत्वपूर्ण तथ्य पर प्रकाश डालती हैं वर्तमान समय में, स्थान-स्थान पर भगवा वेशधारी धर्म-प्रचारक नजर आते है। ऐसे में हर जिज्ञासु को, सीताजी की ही भांति, उनसे उनकी पूर्णता का प्रमाण मांगना होगा। जो पूर्ण गुरु होंगे, वे प्रमाण स्वरूप ब्रह्मज्ञान रूपी मुद्रिका प्रदान करेंगे। इस ज्ञान के माध्यम से शिष्य को उसके भीतर ही परमात्म-प्रकाश (श्री राम) के प्रत्यक्ष दर्शन करवा देंगे। वस्तुतः यही गुरु की सत्यता का प्रमाण है। फिर जैसे सीता जी अपनी मुक्ति के प्रति पूर्ण निश्चिन्त हो गई थीं, ऐसे ही सच्चे गुरु की रहनुमाई में एक शिष्य पूरी तरह निश्चिंत हो जाता है। उनसे प्राप्त परमात्म-दर्शन के बाद वह भी पूरे विश्वास के साथ मुक्ति और प्रभु मिलन के पथ पर अग्रसर होता है और निःसंदेह मंजिल को प्राप्त करता है। एक पूर्ण सतगुरु के सान्निध्य में शिष्य अपने भीतर अलौकिक दीपावली मनाता है। सतगुरु की कृपा से उसका हृदयकाश दिव्य दीपमालाओं, अनगिनत दीपशिखाओं व स्वर्णिम प्रकाश से अटा रहता है और यही इस प्रकाश के महोत्सव का सार्थक स्वरूप है।

Share This Post

Post Comment