बेखौफ लुटेरों को पकड़ने के लिए 7 टीमें गठित

बेखौफ लुटेरों को पकड़ने के लिए 7 टीमें गठित

गोंड़ा, उत्तर प्रदेश/श्याम बाबूः बाइक सवार बेखौफ बदमाशों द्वारा दिन दहाड़े इलाहाबाद बैंक के गार्ड को गोली मारकर पचास लाख रुपयों से भरा कैश बाक्स लूटने वाले लुटेरों को जेल की सलाखों तक पहुंचाने के लिए जहाँ एसपी के निर्देशन मे पुलिस की 7 टीमें गठित की गयी है, वहीँ 24 घंटों के बाद भी लुटेरों से दूर होने के कारण कानून व्यवस्था पर कड़ा सवाल उठ रहा है। नगर कोतवाली के रानी बाजार स्थित इलाहाबाद बैंक मे हुई दिन दहाड़े 50 लाख की लूट से जहाँ पूरा गोण्डा थर्राया हुआ है, वहीँ 24 घंटे बीतने के बाद भी लुटेरों का ठोस सबूत न मिलने के कारण पुलिस महकमे की भी सरदर्दी बढ़ी हुई है। खुद की पीठ थपथपाने वाले कानून के नुमाइंदों ने सपने मे भी नही सोंचा होगा कि उनके नाक नीचे ही इतनी  बढ़ी लूट हो जायेगी कि पूरे पुलिस महकमे में हड़कंप मच जाएगा, और क़ानून व्यवस्था पर लोगों की उँगलियाँ उठनी शुरू हो जायेगी। लूट के प्रकरण मे क्षेत्राधिकारी भरतलाल यादव का कहना है कि हम सूचना कलेक्ट कर रहे हैं, अभी तक खास सफलता नही मिल पायी है। उन्होंने कहा कि लुटेरों को पकड़ने के लिए एसपी ने खुद के निर्देशन मे 7 टीमे जनपद व गैर जनपद के लिए गठित की गई है। प्रकरण के प्रगति मे सीओ ने बताया कि कुछ लोगों का नाम प्रकाश में आया है, एसपी का स्ट्रिंग आपरेशन जारी है। लुटेरों की तलाश सरगर्मी से की जा रही है। दिल दहलाने देने वाली हादसा के बाद पुलिस चौकसी बढ़ाने के लिए देखते देखते नगर कोतवाली छावनी में तब्दील हो गयी, जहाँ एसपी, सीओ, कोतवाल, समेत खाकी का हुजूम उमड़ आया, जहाँ से एसपी ने आसपास के तमाम क्षेत्रों में पूर्ण रूप से एलर्ट रहकर मामले की छानबीन के लिए कठोर निर्देश दिया। बताते चलें कि जिन बैंकों में सुरक्षा की कमी नजर आती थी, आज वहां भारी सुरक्षा व्यवस्था है। पूरा बैंक पुलिस बल से घिरा है, अफ़सोस का विषय तो यह है कि अगर यही सुरक्षा पहले होती तो उक्त बैंक से 50 लाख रुपयों की लूट इस कदर न होती।

सूचना देने वाले को मिलेगा 50 हजार रुपयों का इनाम — डीआईजी

प्रकरण के सन्दर्भ मे उप महानिरीक्षक अनिल कुमार राय का कहना है कि सीसी टीवी कमरे  को जब खंगाला गया तो पता चला कि लुटेरों को भागते समय कुछ लोगों ने पत्थर भी मारे थे, जिससे एक युवक के सर पर चोटें आयीं हैं, उन्होंने यह भी कहा कि पब्लिक का कोई भी व्यक्ति अगर हमे अपराधियों की सूचना देता है तो उसका नाम गुप्त रखा जाएगा, और उसे 50,000 रुपयों का इनाम भी दिया जायेगा। बैंक गार्ड सादिक की मौत से परिजनों मे कोहराम मचा हुआ है। पूरे मोहल्ले मे मातमी माहौल छाया हुआ है। हरदिल अजीज सादिक के मरने का गम  सभी को सता रहा है, हर किसी की आँखों में अश्कों का सैलाब उमड़ा हुआ है। इलाहबाद बैंक शाखा पर शाम के करीब पांच बजे दो बाइक सवार बदमाशों द्वारा ने उस समय लूट को अंजाम दिया जब बैंक कर्मचारी कैश बाक्स को कैरेन्सी चेस्ट में जमा करने के लिए कैश वैन पर रखने जा रहे थे। बताया जाता है कि बैंक का गार्ड शादिक व कुछ और बैंक के कर्मचारी जैसे ही कैश बाक्स को लेकर चैनल से बाहर ही निकले थे कि पहले से घात लगाये बैठे बदमाशों ने गार्ड पर ताबड़-तोड़ तीन गोलिया मारी जिससे वह मुर्छित होकर बैंक के बाहर गिर पड़ा। गोली चलते ही अन्य कर्मचारी कैश बाक्स छोड़कर बैंक में भाग गये और बदमाश कैश बाक्स को बाइक पर रखकर बैंक के बगल वाली गली से भागने में सफल रहे। घटना के तुरन्त बाद बैंक कर्मचारियों द्वारा 100 नम्बर पर फोन डायल करने का प्रयास किया गया लेकिन वह नहीं मिला। घटना के करीब आधे घण्टे बाद पुलिस मौके पर पहुंची। बदमाश सीसीटीवी कैमरे से बचने के लिए हेलमेट लगाये हुए थे। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार बदमाश सफेद शर्ट व जीन्स का पैंट पहने हुए थे। शाखा प्रबन्धक बृजेश सिंह ने बताया कि गार्ड व बैंक का चपरासी तथा एक अन्य कर्मचारी कैश बाक्स को लेकर कैश वैन में रखने जा रहे थे हम लोग अन्दर बैठे थे जैसे ही हमारे कर्मचारी चैनल गेट के बाहर हुए कि ताबड़तोड़ फायरिंग की आवाज मिली। जब हम लोग दौड़कर बाहर निकले तो गार्ड गेट पर पड़ा था और बदमाश रुपयों कैश बॉक्स लेकर फरार हो चुके थे।

Share This Post

Post Comment