भीषण गर्मी में पानी और पंखे के लिए तरस रहे मरीज

भीषण गर्मी में पानी और पंखे के लिए तरस रहे मरीज

गोंडा, उत्तर प्रदेश/श्याम बाबूः मरीजों के दर्द का कोहराम देखना हो तो आईये जिला महिला अस्पताल, जहाँ चारों तरफ ही भ्रष्टता की गंगा बह रही है। वार्डों में मरीज दर्द से तड़प रहे हैं। और जिम्मेदार चैन की नींद फरमा रहे हैं, जिन्हें न तो शासन के निर्देशों का खौफ है और न ही अपने अधिकारियों का डर है। मरीजों के सविधा को लेकर जारी किया गया योगी सरकार का निर्देश जिला महिला अस्पताल मे दम तोड़ रहा है। यहाँ एक तरफ जहाँ आवारा पशुओं से मरीजों को बचना पड़ता है। वहीँ दूसरी ओर इलाज के नाम पर मरीजों से रुपये वसूली का घिनौना खेल चलता है और मरीजों को बाहर से भी दवाइयाँ लेनी पड़ता है। उदाहरण के तौर पर ग्राम माधव पुर  निवासी अतुल कुमार शुक्ला ने बताया कि उससे पत्नी की इलाज के लिए सौ रुपये माँगा गया न देने पर उसकी पत्नी को नर्स ने एडमिट नही होने दिया। वहीँ दूसरी ओर  दिनांक 6 सितम्बर को ग्राम उजागर पुर मसकनवा निवासी इब्राहीम की पत्नी तहरुन निशा को जब गांव के ही दबंगों घर में घुसकर मारा पीटा तो उसके नाजुक अंग से रक्तस्राव होने लगा, पीड़ित परिजनो ने जब जिला महिला अस्पताल उसे एडमिट कराया तो वहां उसे भारी दुश्वारियों का सामना करना पड़ रहा है। परिणाम स्वरुप तीन दिन के बाद भी डाक्टरों ने उसका अल्ट्रासाउंड नही किया।और पूछने पर बताते हैं कि अल्ट्रासाउंड की फिल्म खत्म है जबकि मरीज आज भी इलाज के आभाव मे दर्द की सिसकियाँ भर रहा है। और जिम्मेदार खुशियों के ठहाके लगा रहे हैं। सी एम एस का कहना है कि मेरे पास स्टाफ की कमी है, जिससे देखभाल में समस्या आ रही है।

सी.एम.ओ के बोल – प्रकरण के सन्दर्भ मे सी.एम.ओ का कहना है कि समस्याओं में मै क्या कर सकता हूँ, बहरहाल अगर अल्ट्रासाउंड नही हुआ है तो मै कल तक  उसे करवा दूंगा। अब देखना तो यह है कि क्या कल ये मरीज के दर्द पर मलहम लगा पाएंगे, या फिर आश्वासन के घूँट पर मरीज को जिन्दा रखेंगे।

Share This Post

Post Comment