गौ-गुंडों के ख़िलाफ़ सख्त हुआ सुप्रीम कोर्ट; हर राज्य को दिया ये आदेश

मुरादाबाद, उत्तर प्रदेश/महबूब आलमः सुप्रीम कोर्ट ने गौ-रक्षा के नाम पर हो रही हिंसा को रोकने के लिए क़दम उठाया है। उच्चतम न्यायलय ने हर राज्य से कहा है कि गौ-रक्षा के नाम पर हो रही हिंसा को रोकने के लिए एक वरिष्ट पुलिस ऑफिसर को नोडल ऑफिसर नियुक्त किया जाए। अदालत ने कहा है कि केंद्र सरकार और राज्य सरकारें सुनिश्चित करें कि गौ-रक्षा के नाम पर कोई क़ानून अपने हाथ में ना लेने पाए। देश में लगातार गौ-रक्षा के नाम पर हिंसा की वारदातें हो रही हैं। ये वारदातें उत्तर प्रदेश, बिहार, गुजरात, मध्य-प्रदेश तथा अन्य राज्यों में हुई हैं। इस आतंक और गुंडागर्दी में कई आम नागरिकों की जान भी गयी है। हिंसा के शिकार अधिकतर मुसलमान और दलित समाज के लोग हैं। मंगलवार शाम को वरिष्ट पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या हो गयी। गौरी लंकेश के भाई इन्द्रजीत ने कहा कि इस हत्या की सीबीआई जांच होनी चाहिए। लंकेश दक्षिणपंथी विचारों के ख़िलाफ़ मानी जाती थीं। उनकी हत्या की निंदा समूचे विपक्ष समेत भाजपा के भी कई नेताओं ने की है। गौरी लंकेश की हत्या को दक्षिणपंथी संघठनों की साज़िश मानते हुए कई शहरों में प्रदर्शन हो रहे हैं। वो मौजूदा भाजपा सरकार की भी विरोधी मानी जाती थीं। गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज और हॉस्पिटल में पिछले बच्चों की मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। अस्पताल में 24 घंटो के अंदर 10 और बच्चों की मौत की खबर सामने आ रही है। मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. पी के सिंह ने इस मामले में बातचीत करते हुए ये जानकारी दी है कि अस्पताल में पीडियाट्रिक वार्ड के एनआईसीयू में 17 बच्चे और पीआईसीयू यानी कि जनरल पीडिया वार्ड में 324. लखनऊ मेट्रो आज पब्लिक के लिए चालु कर दी गयी। पहले ही दिन मगर इसमें तकनीकी दिक्क़त महसूस की गयी। आलमबाग़ स्टेशन के पास हुई इस ख़राबी की वजह से आम लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा. बच्चे भर्ती किये गये थे।

Share This Post

Post Comment