पाली में केन्द्रीय मंत्री ने साढ़े पांच घंटे तक दिशा की बैठक में समीक्षा की

पाली, राजस्थान/महेन्द्र कुमारः केन्द्रीय विधि, न्याय एवं इलेक्ट्रोनिक्स राज्य मंत्री पी.पी. चौधरी ने रविवार को पाली जिला परिषद सभागार में जिला विकास समन्वय और निगरानी समिति दिशा की बैठक में साढ़े पांच घंटे तक विभिन्न योजनाओं की विस्तार से समीक्षा की और आवश्यक निर्देश दिए वही पाली जिला कलेक्टर सुधीर कुमार शर्मा ने जिले की विभिन्न योजनाओं संबंधी प्रगति की जानकारियां प्रदान की। केन्द्रीय राज्य मंत्री ने विभिन्न योजनाओं की विभागवार समीक्षा की। उन्होंने विशेष रूप से वाईफाई होटस्पोट की त्वरित कार्यवाही के बीएसएनएल को निर्देश दिए। उन्होंने पीएमओ बांगड़ अस्पताल को टेलिमेडिसन तथा ऑनलाईन रिपोर्ट प्रस्तुत करने की हिदायत दी। उन्होंने बताया कि दिशा को अब ई-समीक्षा में रखा जाएगा तथा संबंधित अधिकारियों द्वारा साप्ताहिक अपलोड करने की व्यवस्था होगी। यह एक नवाचार के रूप में उल्लेखनीय उपलब्धि होगी।
जिले के सड़कों के निर्माण एवं पुनरूद्धार की समीक्षा – केन्द्रीय राज्य मंत्री ने प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना में किए गए कार्यो की पालना रिपोर्ट की समीक्षा की। ग्रामीण गौरव पथ के 174 ग्रामों में से एक को छोड़कर सभी कार्य पूरे कर लिए गए। अधीक्षण अभियंता ने बताया कि वर्ष 2016-17 की 87 कि.मी. की स्वकृति में 57 में डामर कार्य किया गया। उन्होंने निर्देश दिए कि प्रत्येक सड़क निर्माण व डामर किए जाने वाले कार्यो की गुणवत्ता में किसी प्रकार का समझौता नहीं हो। उन्होंने जिले की सभी प्रस्ताव भेजकर उसकी कोपी प्रस्तुत करें। उन्होंने कहा कि अतिवृष्टि के बाद जिले की सड़कों में हुए एक भी गड्डे तथा टूट फूट तुरंत ठीक होनी चाहिए। उन्होंने गुंदोज, दयालपुरा आदि पूल संबंधी स्थिति की रिपोर्ट पेश करें। उन्होंने एनएच के अधीक्षण अभियंता से अतिवृष्टि से उत्पन्न सड़कों के पुननिर्माण तथा जल निकासी के सारे संसाधन एव अन्य सभी उपाय योजनाबद्ध रूप से क्रियान्वित करे। उन्होंने स्पष्ट निर्देश दिए कि गुणवत्ता अब ऐसी रखी जाए कि दुबारा भी अगर इस तरह की स्थिति का सामना हो तो स्थिति स्वनियंत्रण में रहे। इसके अलावा ड्रेनेज, गांव से रोड पर आए जल तथा ग्रामीण क्षेत्र में जल निकासी के सभी कार्य पूरे कराएं। इसके अलावा शहर की प्रमुख सड़कों एवं आबादी के बीच सड़कों की भी समीक्षा की। उन्होंने जिले की सभी सड़कों के निर्माण एवं रिपेयर की समीक्षा कर निर्देश दिए। उन्होंने विशेष रूप से निर्देश दिए कि क्रिटीकल इश्यु जनप्रतिनिधियों की जानकारी में लाए जाए अन्यथा संबंधित अधिकारी के विरूद्ध कार्यवाही की जाएगी।
अतिवृष्टि में किए कार्यों की सराहना – जिला प्रशासन, सभी विभागों तथा जनप्रतिनिधियों नें अतिवृष्टि से उत्पन्न स्थितियों को पूरी निष्ठा, मेहनत व समर्पित भाव से काम किया। इससे उत्पन्न स्थितियों पर नियंत्रण पाने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ी गई। यह सराहनीय है।
अजमेर व जोधपुर रेल्वे अधिकारियों से चर्चा – अजमेर व जोधपुर रेल्वे अधिकारियों को केन्द्रीय मंत्री ने निर्देश दिए कि पानी की निकासी के लिए फाटक के कारण कोई व्यवधान नहीं आना चाहिए। अतिवृष्टि से पानी भराव की स्थिति के लिए तकनीकी परीक्षण कर लिया जाए तथा गुणवत्तायुक्त कार्य किए जाए। इसके अलावा पानी रेल्वे फाटक पर पहुंचे ही नहीं ऐसी व्यवस्था सुनिश्चित की जाए।
नरेगा कार्यो की समीक्षा – उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों में नरेगा कामों के तहत विभिन्न झाड़ियों की कटाई कार्य के प्रस्ताव बनाए। उन्होंने बीएसएनएल से ऑप्टिकल फाईबर्स से शेष रहे गांव त्वरित जोड़ने के निर्देश दिए। नरेगा में सभी सड़कों के प्रस्ताव भिजवाए। नरेगा में किचन सेट और बाउण्ड्री वाल के प्रस्ताव सभी डीईओ से मंगवाए जाए। विद्यालयों के मुख्यमंत्री घोषणा अनुरूप खेल मैदान के प्रस्तावों की भी समीक्षा की। सभी डीईओ जिले के सभी विद्यालयों की सभी कमियों की लिस्ट बनाकर भेजे।
प्रधानमंत्री आवास योजना तथा स्वच्छ भारत कार्यक्रम – जिले में चल रहे प्रधानमंत्री आवास योजना के कार्यों की विस्तृत समीक्षा कर आवश्यक निर्देश दिए गए। स्वच्छ भारत मिशन के तहत संचालित कार्यो की समीक्षा करते हुए शौचालय निर्माण में लंबित भुगतान के निर्देश दिए।
ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम – ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल के लिए पाइपों, एसआर की मांग संबंधी कार्य करवाने की हिदायत दी। विभिन्न गांवों में पेयजल वितरण की व्यवस्था भी सुदृढ़ रखें। विभिन्न समस्याग्रस्त गांवों में पेयजल वितरण व्यवस्था की शीघ्र पुरा करवाने की हिदायत दी। पेयजल वितरण की विभिन्न विद्यालयों में आने वाली समस्या का निस्तारण करें।
डिस्कॉम कार्यो की समीक्षा – दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के प्रथम व द्वितीय चरणों में किए जा रहे कार्यां की समीक्षा की। जिले में विभिन्न जीएसएस के निर्माण कार्यो की प्रगति की भी समीक्षा की गई। उज्ज्वला योजना में विभिन्न ग्रामीण क्षेत्रों के विद्युत कनेक्शन की भी समीक्षा की गई।
विभिन्न फसल बीमा योजना – प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत विभिन्न ग्रामीणों के क्लेम रिलीज करने संबंधी समीक्षा की गई। उन्होंने सूचना के अधिकार के तहत मांगी गई सूचनाओं को समय पर उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए।
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य तथा पशुपालन – सीएमएचओ से विभिन्न योजनाओं के क्लेम प्रदान करने की समीक्षा की गई। इसके अलावा फ्लड रिलीफ के तहत कार्य तथा मौसमी बीमारियों से बचाव की तैयारियों की समीक्षा की गई। पेयजल वितरण के सेम्पल लेकर भी नियमित जांच करें। इसके अलावा पशुपालन विभाग द्वारा अतिवृष्टि से मृत पशु पाए जाते है तो उन्हें तुरंत डिस्पोजल करवाएं।
विभिन्न योजनाओं की समीक्षा – विभिन्न भवन रहित विद्यालयों के प्रस्ताव पर चर्चा की गई। जिले के सभी उत्कर्ष विद्यालयों में विद्युत कनेक्शन, चार दीवारी, पाली, बाली व मारवाड़ जंक्शन में स्वामी विवेकानंद उत्कर्ष विद्यालयों के बनाने के प्रस्तावों पर चर्चा की गई। अगर कहीं विद्यालयों में ज्यादा है और कहीं कम हो तो प्रावधान के अनुसार सामंजस्य करें। इसके अलावा विभिन्न ग्रामीण क्षेत्रों में बीएसएनएल के टॉवर्स लगाने की प्रगति की भी समीक्षा की गई।
वाई-फाई हॉट स्पॉट – उन्होंने बीएसएनएल को जिले में वाई फाई, हॉट स्पॉट लगाने की त्वरित कार्यवाही के निर्देश दिए। इससे शीघ्र गांव वाई फाई से जुड़ सकेंगे। उपमुख्य सचेतक मदन राठौड़, विधायक केशाराम चौधरी, जिला प्रमुख पेमाराम सीरवी ने अतिवृष्टि में हुई क्षतिग्रस्त सड़कों तथा ग्रामीणों की समस्याएं सामने रखी तथा सुझाव दिए। विधायक राठौड़ ने नरेगा में संबंधित अपनी-अपनी पंचायतों में झाड़ी कटाई का काम करने का सुझाव दिया। नरेगा में सड़कों की फुटपाथ के पुननिर्माण के कार्य भी करवाए जाए। उन्होंने नरेगा से वर्ष में चार व्यक्ति स्कूलों को दिए जाए ताकि सफाईकर्मी के रूप में कार्य कर सके। उन्होंने पाईप लाईन, एसआर आदि कार्यो की प्रगति के लिए सुझाव दिए। बैठक में यूआईटी चेयरमैन संजय ओझा, पाली प्रधान श्रवण बंजारा सहित विभिन्न प्रधानों ने भी सुझाव दिए।
पाली जिला कलेक्टर सुधीर कुमार शर्मा ने जिले की विभिन्न योजनाओं संबंधी प्रगति की जानकारियां प्रदान की। एडीएम भागीरथ विश्नोई, यूआईटी सचिव बजरंगसिंह सहित विभिन्न संबंधित अधिकारियों ने आवश्यक जानकारियां प्रदान की। विभिन्न योजनाओं की प्रगति की जानकारी सीईओं जिला परिषद उदयभानु चारण ने प्रस्तुत की।

Share This Post

Post Comment