जन्माष्टमी व स्वतंत्रता दिवस की तैयारियों का दौर शुरू

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः राखियों के स्टॉल बाजारों से अभी सिमटे ही थे कि जन्माष्टमी व स्वतंत्रता दिवस ने दस्तक दे दी। इसके लिए क्षेत्र के बाजार ने भी कमर कस ली है। दुकानों का सामान दुकानों से निकाल बाहर लगे स्टॉल पर सजने शुरू हो गए हैं। जन्माष्टमी के लिए लड्डू गोपाल की पोशाक, झूला, आभूषण व झांकियों के लिए देवताओं की पोशाक आदि श्रृंगार से जुड़ी चीजें बाजार में दिखनी शुरू हो गई है। स्वतंत्रता दिवस पर दिल्ली में पतंग उड़ाने का रिवाज वर्षो पुराना है। स्वतंत्रता दिवस आने से पहले ही आसमान में रंग-बिरंगी पतंगें आपस में पेंच लड़ाती नजर आनी शुरू हो गई है। इन दिनों घरों की छत जहां अक्सर सन्नाटा नजर आता है वहां पतंग उड़ाते बच्चों की रौनक पसरी हुई है। लोगों की सुरक्षा को लेकर पुलिस भी इलाके में काफी मुस्तैद है। स्पीकर के माध्यम से लोगों को सावधानी बरतने का संदेश दिया जा रहा है। जरूरत वाली जगह पर बैरिके¨डग कर दी गई है।जन्माष्टमी व स्वतंत्रता दिवस एक ही दिन होने के कारण बाजार में काफी मिला-जुला असर देखने को मिल रहा है जन्माष्टमी को लेकर सड़कों पर लाइट लगाने का कार्य लगभग खत्म हो चुका है। मंदिरों में सफाई व रंगाई का कार्य चल रहा है, वहीं मंदिर व समिति के सदस्य इस बात को लेकर दुविधा में है कि इस बार जन्माष्टमी की क्या थीम होगी। भगवान कृष्ण को इस बार किस तरह तैयार किया जाए, ताकि वह लोगों को कोई विशेष संदेश दे सके। द्वारका स्थित इस्कॉन मंदिर के पुजारी आमोघ लीला प्रसाद बताते हैं कि इस बार जन्माष्टमी के अवसर पर श्री कृष्ण एकता में अनेकता का संदेश देंगे। इसके अलावा भक्तों की भीड़ को नियंत्रित करने के लिए विशेष प्रबंध किया जा रहा है। भगवान कृष्ण के श्रृंगार के लिए विशेषज्ञों की मदद ली जा रही है। जन्माष्टमी के अवसर पर जगह-जगह भजन संध्या का आयोजन किया जाएगा, इसके लिए पंडाल, गायकों व कलाकारों की बु¨कग का कार्य भी जोरों पर हैं। किराए पर मिलने वाली भगवान पोशाक की दुकानों पर इन दिनों काफी भीड़ देखने को मिल रही है। मुबंई के बाद दिल्ली में भी जन्माष्टमी के अवसर पर मटकी फोड़ कार्यक्रम काफी उत्साह के साथ आयोजित होने लगा है। इसके चलते कुम्हार कॉलोनी में भी मटकों की मांग बढ़ गई है। कारीगर गणेश मूर्ति के साथ मटके बनाने में जोर-शोर से जुटे हैं। पतंगों के बाजार की तरफ रुख करें तो रंग-बिरंगी व तिरंगे वाली पतंग स्टॉल पर सज चुकी हैं। छोटी से बड़ी सभी आकार की पतंग बाजार में देखने को मिल रही है। जिन पर कॉर्टून करेक्टर व अभिनेता के चित्रों से लेकर तरह तरह आकर्षक चित्र छपे हैं। पिछले साल के मुकाबले पतंगों के दाम काफी बढ़े हैं, वहीं स्कूलों में सांस्कृतिक कार्यक्रम की तैयारी जोर-शोर से चल रही है। तिरंगा झंडा दुकानों की रौनक बना हुआ है।

Share This Post

Post Comment