गेझा में दलित और जाटों में खुनी संघर्ष, एक की मौत

मेरठ, उत्तर प्रदेश/दिनेश कुमारः जातिय हिंसा की आग में झुलस रहे वेस्ट यूपी में सहारनपुर के बाद अब मेरठ गरमा गया है। परतापुर के गेझा गाँव में जाति सूचक शब्द इस्तेमाल करने को लेकर दलित और जाट बिरादरी के लोगों में खुनी टकराव हो गया। लाठी डंडे और धारधार हथियार चले। कई लोग घायल हो गए। घायलों को जिला अस्पताल भर्ती कराया गया। जिनमे से एक युवक को गंभीर हालत में जिला अस्पताल भर्ती कराया गया। जिसकी उपचार के दौरान मौत हो गई। इसके बाद गाँव में तनाव फैल गया। गाँव में पुलिस तैनात कर दी गयी है। परतापुर के गेझा गांव निवासी गजेन्द्र सिंह का बेटा पिंटू 26 अपने दोस्तों के साथ रविवार रात घर के बाहर सड़क पर खड़ा था। इसी दौरान दलित बिरादरी के ललित, संदीप व दीपु भी गली से गुजर रहे थे। रास्ता छोड़ने को लेकर दोनों पक्ष में कहा सुनी हो गई। आरोप है कि इस दौरान जाट बिरादरी के युवको ने जातिसूचक शब्दों का इस्तेमाल किया और मारपीट कर दी। इसके बाद मामला तूल पकड़ गया और दलित बिरादरी के दर्जनों युवकों ने लाठी डंडो और धारदार हथियारों से हमला बोल दिया। पिंटू के घर पर जाट बिरादरी के लोगों का जमावड़ा लग गया। पूरा गांव पुलिस के हवाले कर दिया गया है।

Share This Post

Post Comment