आदर्श पंचायत की हठधर्मिता गाव बना कचरा पात्र नाले उफान पर

नागौर, राजस्थान/भुराराम जॉगीड़ः हम बात कर रहे है नागौर जिले के मैड़ता-रौड़  कि जहॉ ग्राम पंचायत भवन पर शिलालेख से आदर्श ग्राम पंचायत लिखा है पर ये सिर्फ नाम कि आदर्श है पुरा गॉव हर कौने से गंदगी से भरा पड़ा है। बारिश का दौर शुरु हो चुका है। दुकानों और मकानों मे पानी घुस रहा है और ग्रामीणों के बार बार अवगत कराने के बावजूद सरपंच और कर्मचारी कन्नी काट जाते है। सबसे बड़ा बहाना तो ये है कि ये नाली पीडबल्यूड़ी विभाग की है या इस सड़क का पावर हमारे पास नहीं है। कस्बे मे जहा लोग खुले मे शौच कर रहे है वहॉ सार्वजनिक शौचालय बनने चाहिए। जहा सिर्फ पेशाबघर बनाकर छोड़ दिए है। और जहॉ पेशाबघर बनाने के लिये ग्रामिण अवगत करा रहे है। वहा रटा रटाया बहाना तैयार रहता है। सबसे बड़ी बात राजस्थान संपर्क पौर्टल पर दर्ज शिकायतों का तौ चंद राजनीतिक तत्वों के फोन से ही ऑनलाईन समाधान हो जाता है समस्या वहीं पड़ी रहती है पुरे गाव मे नालियों के पानी निकासी को लेकर घर घरझगड़े होते रहते है। कई बार नौबत थाने तक पहुच जाती है कई जगह नाली निर्माण नही होने से सड़को पर सदा बहार किचड़ भरा रहता है जहा एक बार नाली निर्माण होने से समस्या का समाधान हो रहा है वहा इतिहास मे आज तक नाली बनी ही नही पर वहा किचड़ सदाबहार बना रहता है जिस पर दिखावे के लिए हर महिने  ट्रैक्टरौ से और ज्यादा मिट्टी डाल दी जाती है नतीजा बारिश का पानी घरो और दुकानों मे घुस जाता है जिनमे पार्शवनाथ जैन मंदिर पंचायत भवन सदर बाजार बस स्टैण्ड से लेकर रेल्वे स्टैशन 100 न.रेल्वे फाटक बाईपुरा हस्यास चौराहा पेट्रोल पंप बिजली घर जारौड़ा सड़क शमशान घाट तो चारों तरफ इन सब जगह समस्या बहुत बड़ी है और शायद ही कोई मौहल्ला होगा जो कचरा पात्र ना बना हो।

Share This Post

Post Comment