एमपी में 10वीं-12वीं का रिजल्ट आने के बाद नौ बच्चों ने की खुदकुशी

भोपाल, मध्यप्रदेश/नगर संवाददाताः मध्यप्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल की ओर से आयोजित 10वीं व 12वीं के नतीजे शुक्रवार को घोषित कर दिए गए। छोटे शहरों के विद्यार्थियों ने इसमें कमाल किया लेकिन, इन्हीं छोटे शहरों से दुखी करने वाली खबरें भी आ रही हैं। रिजल्ट घोषित होने के बाद अलग-अलग शहरों में कुल 9 बच्चों के खुदकुशी का चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यह घटनाएं भिँड, जबलपुर, ग्वालियर, छतरपुर, गुना, भोपाल, सतना, इंदौर और टीकमगढ़ की हैं. इसके साथ ही कुछ अन्य स्थानों पर बच्चों के अवसाद की बातें कहीं जा रही हैं। इससे पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मेधावी छात्रों को प्रशस्ति और पदक देकर सम्मानित किया था. टॉपर्स पर फूल भी बरसाए थे। आधिकारिक जानकारी के अनुसार, राज्य में हाईस्कूल के नियमित छात्रों का परीक्षा परिणाम 49.86 प्रतिशत रहा, जिसमें छात्राओं का प्रतिशत 51.43 और छात्रों का 48.53 रहा। वहीं स्वाध्यायी छात्रों का परीक्षा परिणाम 10.52 प्रतिशत रहा. हाईस्कूल की टॉपर लिस्ट में कुल 58 छात्र हैं, जिनमें से 53 छात्र छोटे शहरों और कस्बों से आते हैं। इस वर्ष 10वीं व 12वीं की परीक्षा में कुल 18 लाख 68 हजार विद्यार्थी शामिल हुए। हाइयर सेकेंडरी परीक्षा में नियमित छात्रों का परिणाम 67.87 प्रतिशत रहा. इसमें भी छात्राएं, छात्रों के मुकाबले आगे रहीं। छात्राओं का परीक्षाफल 72.38 और छात्रों का 64.16 प्रतिशत रहा. वहीं स्वाध्यायी छात्र 26.62 प्रतिशत उत्तीर्ण हुए। वहीं प्रावीण्य सूची में 118 बच्चों ने स्थान पाया है, जिसमें 88 छात्र छोटे श्शहर और कस्बों के है। 12वीं की बोर्ड परीक्षा में सात लाख 12 हजार और 10वीं की परीक्षा में 11 लाख 56 हजार विद्यार्थी शामिल हुए थे।

Share This Post

Post Comment