उत्तराखंड में जंगलों में छुट्टे घूम रहे 80 नरभक्षी

देहरादून, उत्तराखंड/नगर संवाददाताः सावधान! 71 फीसद वन भूभाग वाले उत्तराखंड में 80 नरभक्षी छुट्टे घूम रहे हैं। इनमें 75 गुलदार और पांच बाघ शामिल हैं। ये कहां हैं, क्या इनकी मौत हो गई, कहीं ये रिवेंज किलिंग (बदले की भावना) का निशाना तो नहीं बने, ऐसे तमाम सवाल भले ही वन्यजीव महकमे के लिए पहेली बने हों, लेकिन इन आदमखोरों का पता न चलने से आमजन के मन से खौफ के बादल छंटने का नाम नहीं ले रहे। वजह ये कि सूबे में आए दिन गुलदार और बाघ के हमलों की घटनाएं सुर्खियां बन रही हैं। यह किसी से छिपा नहीं है कि उत्तराखंड में मानव-वन्यजीव संघर्ष किस कदर चिंताजनक स्थिति में पहुंच गया है। खासकर गुलदारों ने तो नींद ही उड़ाई हुई है। कारण चाहे जो भी हों, लेकिन आबादी वाले क्षेत्रों में ये ऐसे धमक रहे, मानो पालतू जानवर हों। अंदाजा इससे भी लगा सकते हैं कि वन्यजीवों के हमलों की 80 फीसद से अधिक घटनाएं गुलदारों की हैं। वर्तमान में सूबे का शायद ही कोई क्षेत्र ऐसा होगा, जहां गुलदारों ने नींद न उड़ाई हो। कुछ क्षेत्रों में बाघ भी मुसीबत का सबब बने हैं। हालांकि, मनुष्य के लिए खतरनाक साबित हो रहे गुलदार-बाघ को वन्यजीव महकमा आदमखोर घोषित अवश्य करता है, लेकिन उसकी पहुंच में ये आधे भी नहीं आ पाते। 2006 से अब तक के कालखंड को ही देखें तो इस अवधि में 148 गुलदार और 11 बाघ आदमखोर घोषित किए गए। इनमें सिर्फ 73 गुलदार और छह बाघ ही मारे अथवा पकड़े जा सके। बाकी आदमखोर महकमे के लिए आज भी पहेली बने हुए हैं।

Share This Post

Post Comment