गांधी के चंपारण सत्याग्रह के 100 साल पूरे, नीतीश कुमार ने पुष्पांजलि देने के साथ आरंभ किया समारोह

पटना, बिहार/नगर संवाददाताः 10 अप्रैल को महात्मा गांधी के सत्याग्रह के 100 साल पूरे होने पर सोमवार से ‘चंपारण सत्याग्रह शताब्दी समारोह’ की शुरुआत हो गई है। यह समारोह एक साल तक चलेगा। 20 अप्रैल , 2018 को इसका समापन होगा। बापू के चित्र पर पुष्पांजलि देने के साथ ही चंपारण सत्याग्रह शताब्दी समारोह का शुभारंभ पटना के सम्राट अशोक कन्वेंशन सेंटर के ज्ञान भवन में हो गया। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कार्यक्रम का शुभारंभ किया। ज्ञान भवन में विमर्श कार्यक्रम का उद्घाटन करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि एक बार फिर से गांधी जी के विचारों को जन-जन तक पहुंचाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि शराब की वजह से समाज बर्बाद हो रहा था इसलिए इसे बिहार में बंद करने का निर्णय लिया गया। शराबबंदी के बाद अब नशा मुक्ति पर भी हम काम कर रहे हैं। बापू का बिहार के चंपारण से गहरा नाता रहा है। महात्मा गांधी के सत्याग्रह का पहला प्रयोग बिहार के चम्पारण जिले में हुआ था। बिहारवासी उनकी याद में आज से पूरे एक साल चंपारण शताब्दी समारोह मनाने जा रहे हैं. इसमें शामिल होने राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी भी आएंगे। इसी आंदोलन की याद में पीएम मोदी 10 अप्रैल की शाम एक खास डिजिटल प्रदर्शनी का आगाज करेंगे, जिसमे इस आंदोलन का इतिहास दिखाया जाएगा। बापू आज से ठीक सौ साल पहले 10 अप्रैल 1917 को बिहार आए थे। चंपारण के किसान राजकुमार शुक्ल ने उन्हें बुलाया था। बापू इस दौरान चंपारण में तीन दिन रुके, किसानों की पीड़ा जानी और उन्हें तीन कठिया प्रथा से मुक्ति दिलाई।

Share This Post

Post Comment