रिजनल साईंस सेंटर की स्थापना का रास्ता हुआ साफ

अंबाला, हरियाणा/चरनजीतः स्वास्थ्य, खेल एवं युवा कार्यक्रम मंत्री अनिल विज ने बताया कि अम्बाला में बनने वाले रिजनल साईंस सेंटर एवं म्यूजियम के लिए नगर निगम द्वारा 5 एकड़ भूमि सूचना एवं प्रौद्योगिकी विभाग के नाम स्थानान्त्रित हो गई है। शीघ्र ही इस भूमि की चार दिवारी करके मिट्टी भरने का काम आरम्भ करवाया जाएगा और उसके उपरांत इसके अंदर के निर्माण की प्रक्रिया भी तेजी से आरम्भ करवाई जाएगी। स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने बताया कि नगर निगम अम्बाला द्वारा इस सेंटर के निर्माण के लिए 5 एकड़ भूमि सूचना एवं प्रौद्योगिकी विभाग के नाम स्थानान्त्रित करने के लिए बाजार भाव से इस जमीन की कीमत जमा करवाने की शर्त रखी थी। बाद में सरकार की हाई पावर परचेज कमेटी के हस्तक्षेप के बाद कलैक्टर रेट पर पैसा जमा करवाने के निर्णय से अब यह जमीन विभाग के नाम स्थानान्त्रित हो चुकी है। इस क्षेत्र में मिट्टी भरने तथा चार दिवारी करने के लिए भी सरकार द्वारा 4 करोड़ रुपए की राशि पहले से ही स्वीकृत हो चुकी है। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही इसकी टैंडर प्रक्रिया पूरी करके मिट्टी भरने व चारदिवारी बनाने का कार्य आरम्भ कर दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि अम्बाला छावनी में पांच एकड़ क्षेत्र में रिजनल साईंस सैंटर एवं म्यूजियम की स्थापना की जायेगी। यह परियोजना हरियाणा के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री अनिल विज की विशेष प्राथमिकता में शामिल है। उन्होंने बताया कि लगभग 5 एकड़ क्षेत्र में बनने वाली इस परियोजना के लिए भारत सरकार द्वारा 15 करोड़ रूपये की राशि उपलब्ध करवाई जायेगी। रिजनल साईंस सैंटर में तारामंडल व विज्ञान के विभिन्न विषयों से जुडी जानकारियां तथा भू विज्ञान एवं अंतरिक्ष के अन्य रहस्यों से जुडी जानकारियों को प्रदर्शित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि इससे न केवल क्षेत्र के युवाओं व विद्यार्थियों के वैज्ञानिक दृष्टिकोण को विकसित करने में सहायता मिलेगी बल्कि पूरे उत्तरी हरियाणा के लोगों के लिए एक ज्ञानवर्धक और मनोरंजक स्थल विकसित होगा। अम्बाला छावनी में प्रस्तावित रेलवे कैरिडोर के लिए निर्धारित 70 मीटर चौडाई की जगह छोडक़र साईंस सिटी के लिए 111 गुणा 222 मीटर क्षेत्र को चिन्हित किया गया है। रिजनल साईंस सैंटर के साथ लगभग 67 मीटर स्थान सडक़ों व आवश्यक पार्किंग के लिए छोडकर 22 एकड़ क्षेत्र में शहीद स्मारक की स्थापना की जायेगी।

Share This Post

Post Comment