कर्ज में डूबे दो किसानों ने की आत्महत्या

नासिक, महाराष्ट्र/नगर संवाददाताः देश में किसानों की आत्महत्या का सिलसिला थमने का नाम नही ले रहा है। कर्ज में डूबे किसान को सरकार आश्वासन तो देती है लेकिन नतीजा उनकी आत्महत्या के आंकडों में देखा जा सकता है। नासिक जिले में शुक्रवार को कर्ज और वित्तीय घाटा के चलते दो और किसानों ने आत्महत्या कर ली। उत्तर महाराष्ट्र जिले के मालेगांव और देवला तालुका से गुरुवार को इन किसानों के आत्महत्या की सूचना मिली थी। साउदाने गांव के रहने वाले माधु करारी ने अपने घर को जहर खा लिया। परिवार वालो ने उन्हें फौरन प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया जहां इलाज के दौरान उनकी मृत्यु हो गई। पुलिस ने बताया,’57 साल के किसान कर्ज के चलते काफी दिनों से परेशान चल रहे थे। वहीं दूसरी घटना दोंगरगांव के रहने वाले 38 साल के विठ्ठल अहिरे की है जिन्होंने घर में फांसी लगा कर आत्हत्या कर ली। विठ्ठल ने लोकल कॉपरेटिव सोसाइटी से  70,000 रुपए का लोन लिया था जिसे चुकाना उसके लिए मुश्किल हो रहा था। दोनों किसानों को प्लाज की फसल में भी भारी नुकसान हुआ था। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।

Share This Post

Post Comment