भाजपा को मात देने के लिए उपचुनाव की तैयारी में जुटा सपा-कांग्रेस गठबंधन

लखनऊ, उत्तर प्रदेश/नगर संवाददाताः उत्तर प्रदेश राज्य विधानसभा चुनाव में मिली करारी शिकस्त को भुलाकर समाजवादी पार्टी(सपा)-कांग्रेस गठबंधन अब भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को मात देने के लिये उप चुनाव की तैयारियों में जुट गयी है। गोरखपुर संसदीय सीट से सांसद आदित्यनाथ योगी अब प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं और फूलपुर के सांसद केशव प्रसाद मौर्य उपमुख्यमंत्री हैं। ऐसे में इनके इस्तीफे के बाद दोनों सीटों के लिए छह माह में उपचुनाव होगा। योगी गत मंगलवार को लोकसभा में विदाई भाषण दे चुके हैं। माना जा रहा है कि दोनों शीघ्र ही अपनी सीटों से इस्तीफा देंगे। दोनों सीटों के खाली हो जाने पर शीघ्र ही इन सीटों पर उपचुनाव होगा। सपा और कांग्रेस ने दोनों क्षेत्रों के कार्यकर्ताओं के साथ बैठककर आगे की रणनीति बनाना शुरू कर दी है। जनेश्वर मिश्र ट्रस्ट में कार्यकर्ताओं से अखिलेश ने कहा कि ऐसे में विधानसभा चुनाव की हार भूलकर अभी से चुनावी तैयारी में जुटना होगा। सपा अध्यक्ष दोनों संसदीय क्षेत्रों के कार्यकर्ताओं के साथ दो घंटे तक मंथन किया। उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि दोनों सीटों पर चुनाव जीतकर झूठ की राजनीति करने वालों को जवाब देना है। अखिलेश यादव ने गोरखपुर व इलाहाबाद मंडल के पदाधिकारियों से विधानसभा चुनाव में हार के कारणों की जानकारी हासिल की और भरोसा दिलाया कि पार्टी जनता को न्याय दिलाने के लिए संघर्ष का रास्ता नहीं छोड़ेगी। सपा अध्यक्ष ने भरोसा दिलाया है कि संघर्ष करने वालों का पूरा सम्मान होगा। उन्होंने संकेत दिया कि उपचुनाव में कांग्रेस के साथ गठबंधन जारी रहेगा। सपा ने उम्मीद जताई है कि दोनों उपचुनाव जीतकर वर्ष 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव के लिये महागठबंधन की नींव रखी जा सकती है। महागठबंधन में बहुजन समाज पार्टी(बसपा) को भी शामिल किया जायेगा। बसपा के उप चुनाव में भाग लेने की उम्मीद नहीं की जा रही है।

Share This Post

Post Comment