सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत बोले, मंत्री और विधायक हर साल देंगे अपनी संपत्ति का ब्यौरा

देहरादून, उत्तराखंड/नगर संवाददाताः उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सोमवार को कहा कि हमारी पिछली सरकार ने गौवंश संरक्षण को लेकर जो कानून लाया था, उसे हम प्रभावी तरीके से लागू करेंगे। उन्होंने कहा कि वर्तमान में उत्तराखंड घाटे और कर्ज में है। हम फिजूल खर्चों के बारे में पता करेंगे और आय के नए श्रोत पर चर्चा करेंगे। रावत ने कहा कि बीजेपी सरकार के दौरान मंत्रियों और विधायकों को अपनी संपत्ति का ब्यौरा हर साल देना जरूरी होता था। हम इसे फिर से लागू करेंगे। उन्होंने कहा कि राज्य में अब भाई-भतीजावाद नहीं चलेगा। रावत ने कहा कि हमारी सरकार राज्य से हो रहे पलायन को रोकेगी। हमारी प्राथमिकता रहेगी कि युवाओं को रोजगार मिले। इससे पहले सोमवार की सुबह रावत अपने सभी मंत्रियों के साथ मिलकर सफाई करने उतरे। रावत और उनके मंत्रियों ने हाथ में झाड़ू लेकर विभिन्न जगहों पर सफाई अभियान चलाया। राष्ट्रीय स्यंवसेवक संघ (आरएसएस) के लंबे समय से कार्यकर्ता रहे त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शनिवार को उत्तराखंड के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी। रावत उत्तराखंड के नौवें मुख्यमंत्री बने हैं। रावत के साथ नौ मंत्रियों ने भी शपथ ली थी। इनमें सात कैबिनेट स्तर के और दो राज्यमंत्री हैं। कैबिनेट मंत्रियों में सतपाल महाराज, मदन कौशिक, यशपाल आर्य, हरक सिंह रावत, प्रकाश पंत, सुबोध उनियाल और प्रवीण पांडे शामिल हैं। राज्य मंत्रियों में धन सिंह रावत और रेखा आर्य शामिल हैं।

Share This Post

Post Comment