देवनार पुलिस की गिरफ्त में आया ‘बंटी-बबली’ गिरोह

मुंबई, महाराष्ट्र/हर्षद जोशीः देवनार पुलिस ने एक ऐसे बंटी-बबली को गिरफ्तार किया है, जिस पर एक ही रात में दस से अधिक घरों के ताले तोड़कर लाखों रुपये का सामान साफ करने का आरोप है। 19 वर्षीय आरोपी बंटी यानी विजय दीपक यादव और 48 वर्षीय बबली यानी बनिता पेठे को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। दोनों पर आरोप है कि इन दोनों ने मानखुर्द और शिवाजी नगर पुलिस स्टेशन के तहत दर्जनों घरों में चोरी की वारदात को अंजाम दिया है। हालांकि, इनके साथ दो नाबालिग और एक बालिग आरोपी और हैं, जिन्हें पुलिस तलाश करने में जुटी हुई है। पुलिस के मुताबिक, गिरफ्तार महिला बनिता पर आरोप है कि वह आरोपी विजय ऐंड कंपनी को उन घरों का पता बताती थी, जिनके घरों में काफी दिनों से ताले लगे होते थे। मुआयना करने के बाद विजय अपने गिरोह के साथ उन घरों के ताले तोड़कर चोरी करता और फिर चोरी किया गया सामान बनिता को बेचने के लिए दे देता था। बनिता चोरी और जूलरी का ठिकाना संभालती थी, जबकि विजय ऐंड कंपनी वारदात को अंजाम देने में लगे रहते थे। देवनार पुलिस ने दोनों आरोपियों को आईपीसी की धारा 457 और 380 के तहत गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। देवनार पुलिस स्टेशन के सीनियर पुलिस इंस्पेक्टर दत्तारे शिंदे ने बताया निजी कंपनी में कार्यरत एवं न्यूमोनिया बाग इलाके के निवासी शिकायतकर्ता आशीष कांबले (23) द्वारा घर में चोरी होने की खबर दर्ज कराई गई थी। आशीष के अनुसार, घटना के वक्त घर में कोई नहीं था, जिसका फायदा उठाकर आरोपियों ने घर में मौजूद सोने की जूलरी और 25 हजार नकदी चोरी हो गई थी। आशीष के अलावा भी बीते दिनों पुलिस स्टेशन में चोरी से संबंधित कई मामले लोगों द्वारा दर्ज कराए गए हैं। चोरी की बढ़ती वारदात को देखते हुए पुलिस ने असिस्टेंट पुलिस इंस्पेक्टर विजयकुमार अंबरगे और पुलिस सब इंस्पेक्टर मोहन पवार के नेतृत्व में एक खास टीम गठित किया, जिसने इस गिरोह का भंडाफोड़ किया। इस गिरोह ने एक ही रात में दस घरों में चोरियां की हैं। पुलिस इंस्पेक्टर विजय कुमार अंबरगे ने बताया कि गिरफ्तार चोर विजय यादव गोवंडी के भीमवाड़ी इलाके में रहता है। वह नशे की आदत एवं अय्याशी के लिए अपने तीन और साथियों के साथ मिल कर उन घरों को निशाना बनाता है, जिन घरों में काफी दिनों से कोई नहीं रहता है। यानी घर बंद रहते हैं। वहीं, आरोपी बिनिता महिला सोसायटी में जाकर या फिर घर-घर जाकर साफ-सफाई करने का काम करती और इसकी आड़ में बंद घरों का पता लगाती रहती थी। सही घर मिल जाने के बाद वो विजय को इसकी जानकारी देती थी। इसके अलावा बिनिता चोरी के मोबाइल फोन बेचने का भी काम करती है।

Share This Post

Post Comment