महाराष्ट्र में कांग्रेस की करारी हार

थाने, महाराष्ट्र/राजू सोनीः महाराष्ट्र में हाल ही में हुए नगर निगम चुनाव की करारी हार के बाद – राष्ट्रवादी कांग्रेस और कांग्रेस के नेताओं को मानों कुछ सूझ ही न हो ऐसी हालात हो गयी है। वहीं, मुंबई महानगरपालिका में महापौर पद को लेकर बीजेपी और शिवसेना के बीच खींचतान को लेकर कयास लगाये जा रहे थे। कहा जा रहा था कि बीजेपी और शिवसेना के बीच की ये तनातनी महाराष्ट्र में मध्यवर्ती चुनाव तक जा सकती है। भाजपा के रणनीतिकारों का मानना है कि जितना कम मतदान होगा उतना भाजपा को नुकसान होगा और जितना ज्यादा मतदान होगा उतना भाजपा को फायदा होगा। प्रधानमंत्री नरेंन्द्र मोदी ने पांचवें चरण के मतदान के बाद भाजपा अध्यक्ष शाह को बचे दो चरणों में बंपर मतदान के लिए कार्यकर्ताओं को झोंकने के लिए कहा है। सूत्र बताते हैं कि मोदी ने शाह को साफ कहा है कि बचे दो चरणों में प्रचार से ज्यादा महत्वपूर्ण ज्यादा से ज्यादा मतदान करवाना है। मोदी ने शाह को बचे दो चरणों के लिए बूथ प्रबंधन की कमान खुद संभालने के लिए कहा है। भाजपा का आंकलन है कि अगर बचे दो चरणों में मतदान का प्रतिशत उम्मीदों के अनुकूल नहीं रहा तो भाजपा की राह मुश्किल हो सकती है। गौरतलब है कि 11 फरवरी को पहले चरण में मतदान का प्रतिशत 64.22, दूसरे चरण 15 फरवरी को मतदान का प्रतिशत 65.29 प्रतिशत, तीसरे चरण के लिए 19 फरवरी को 61.16, चौथे चरण के लिए 23 फरवरी को 61 प्रतिशत और पांचवें चरण के लिए 27 फरवरी को 57.41 प्रतिशत मतदान हुआ था। गौरतलब है कि पहले चार चरणों में औसतन 63% प्रतिशत मतदान हुआ लेकिन पांचवें चरण में करीब 6% कम मतदान हुआ।

Share This Post

Post Comment