चित्तौड़गढ़ के पद्मिनी महल में तोड़फोड़

चित्तौगढ़, राजस्थान/नगर संवाददाताः राजस्थान के चित्तौड़गढ़ किले में स्थित रानी पद्मिनी के महल में लगे ऐतिहासिक दर्पणों को अज्ञात लोगों ने तोड़ दिया। चित्तौड़गढ़ जाने वाले पर्यटकों को गाइड इन कांचों के बारे में बताते थे कि तेरहवीं सदी में अलाउद्दीन खिलजी को इन्हीं कांचों के जरिये रानी पद्मिनी की झालक दिखालयी गयी थी। चित्तौड़गढ़ के पुलिस अधीक्षक ने बताया कि भारतीय पुरातत्व विभाग ने कोतवाली थाने में अज्ञात लोगों के खिलाफ पद्मिनी पैलेस में लगे तीन कांचों को तोड़ने की शिकायत दर्ज करायी है। उन्होंने कहा कि मामले की जांच की जा रही है। फिलहाल इस मामले में किसी को गिरफ्तार नहीं किया गया है। इधर श्रीराजपूत करणी सेना के संयोजक लोकेन्द्र सिंह कालवी ने कहा कि गाइड पर्यटकों को इन कांचों के बारे में गलत जानकारी देते थे। हमारे चित्तौड़गढ़ के कार्यकर्ताओं ने भारतीय पुरातत्व विभाग को एक ग्यापन देकर इन कांचों के बारे में गलत जानकारी देने का हवाला देते हुए इन्हे हटाने की मांग संबंधी ग्यापन सौंपा था। उन्होंने कहा कि जहां तक पद्मिनी पैलेस में लगे तीन कांचों को तोडने की बात है उन्हें जानकारी नहीं है।

Share This Post

Post Comment