डबोक चोराहे पर महाराणा प्रताप की अश्वारुढ प्रतिमा लगाने हेतु सोशल मिडिया पर छिड़ी मुहीम

सूरत, गुजरात/पालीवाल जसवंतः चढ़ चेतक पर तलवार उठा
रखता था भूतल–पानी को।
राणा प्रताप सिर काट–काट
करता था सफल जवानी को।
महाराणा प्रताप एक बहादुर राजपूत थे। जिन्होंने हर परिस्थिति में अपनी आखरी सांस तक अपनी प्रजा की रक्षा की। इन्होने सदैव अपने एवम् अपने परिवार से ऊपर उठ कर प्रजा को मान एवम् सम्मान दिया। सोशल मिडिया के माध्यम से मेड़ता निवासी युवा राव दिनेश सिंह और ललित सिंह द्वारा मांग उठाई की महाराणा प्रताप की अश्वारुढ प्रतिमा को डबोक चोराहे पर स्थापित किया जाए व डबोक चोराहे का नामकरण महाराणा प्रताप चोराहा के नाम पर हो। इस मुहीम को मेवाड़ से पूर्ण समर्थन मिल रहा है। हिमाचल के वीर सिपाही मनोज ठाकुर भी इस मुहीम का समर्थन कर चुके है। डबोक चोराहा उदयपुर के एक बड़े चोराहा तथा मेवाड़ का प्रमुख मार्ग है जो ऐतिहासिक महत्व रखता है तथा वहां से अनेक पर्यटन रोज गुजरते है।
इन युवाओं द्वारा पूर्व में भी एक मुहीम चलाई गई थी। मेड़ता हनुमान जी के मंदिर के जीर्णोदार के लिए जो सफल रही।

Share This Post

Post Comment