एम्स में इलाज कराना होगा महंगा! वित्त मंत्रालय ने दी फीस बढ़ाने की सलाह

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में इलाज कराना महंगा हो सकता है। एम्स में इलाज की फीस बढ़ाने की सलाह खुद वित्त मंत्रालय ने दी है। दरअसल पिछले 20 सालों में एम्स के फीस में कोई इजाफा नहीं किया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक, एम्स ने सरकार से अपने लिए बजट में 300 करोड़ रुपए बढ़ाने की मांग की थी, लेकिन सरकार ने संस्थान के इस मांग को मानने के बजाय फीस बढ़ाकर खुद ही बजट में इजाफा करने की सलाह दी है। वित्त मंत्रालय ने एम्स को हर तरह की इलाज और जांच के लिए फीस बढ़ाने की सलाह दी है। एम्स के उपनिदेशक वी. श्रीवास्तव ने भी इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि मीटिंग में इस बात पर चर्चा हुई थी और फीस बढ़ाने के प्रस्ताव पर विचार किया जा रहा है। जानकारी के अनुसार, एम्स के फीस में वर्ष 1996 से कोई बदलाव नहीं किया गया है। कुछ साल पहले फीस बढ़ाने की बात हुई थी, लेकिन भारी विरोध के कारण फीस में बढ़ोतरी नहीं की गई। एम्स इस समय अलग-अलग तरह के जांच और पर्चा आदि की फीस से करीब 101 करोड़ रुपये इकट्ठा कर पाता है। सूत्रों के मुताबिक, इस बार फीस में इजाफा होने की पूरी संभावना है। वित्त मंत्रालय के मुताबिक, पिछले 20 सालों में लोगों की आमदनी बढ़ी है, इसलिए फीस में इजाफा करने से लोगों पर कोई अधिक प्रभाव नहीं पड़ेगा।

Share This Post

Post Comment