महाराष्ट्र के मैकडॉनल्ड्स पेय पदार्थों की बिक्री पर प्रतिबंध

मुंबई, महाराष्ट्र/संगप्पाः महाराष्ट्र के खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) ने हार्डकैसल रेस्टोरेंट्स पर सख्ती दिखाते हुए कहा है कि उसे बिना चेतावनी लेबल के सॉफ्ट-ड्रिंक्स नहीं बेचना चाहिए। हार्डकैसल रेस्टोरेंट्स देश के पश्चिमी और दक्षिणी क्षेत्र में मैकडॉनल्ड्ïस आउटलेट का संचालन करती है। खाद्य नियामक के इस आदेश का देश के फास्ट-फूड क्षेत्र पर दूरगामी प्रभाव दिख सकता है। एफडीए ने आज जारी अपने आदेश में कहा है कि हार्डकैसल को अपने आउटलेट में कार्बोनेटेड बेवरिजेस बेचते समय सभी कपों और गिलासों पर ‘कैफीनयुक्त’ का लेबल लगाना चाहिए। नियामक ने कहा है कि कैफीन के दुष्प्रभाव और बच्चों, गर्भवती महिलाओं एवं स्तनपान कराने वाली महिलाओं जैसे अतिसंवेदनशील वर्ग पर उसके प्रभाव के कारण यह लेबल लगाना जरूरी है। यह मामला कोल्हापुर के मैकडॉनल्ड्स आउटलेट से जुड़ा है जो पिछले साल एफडीए की जांच के दायरे में आया था। एफडीए आयुक्त हर्षदीप काम्बले ने बिजनेस स्टैंडर्ड से कहा कि अब उस आदेश का विस्तार राज्य के सभी मैकडॉनल्ड्स रेस्तरां तक कर दिया गया है।  हार्डकैसल रेस्टोरेंट्स ने कोल्हापुर के खाद्य सुरक्षा अधिकारी बीडी मुले द्वारा अगस्त 2016 में जारी नोटिस को पिछले महीने यह कहते हुए चुनौती दी थी कि अधिकारी ने कंपनी को अपने आउटलेट में बेचे जाने वाले सॉफ्ट ड्रिंक्स पर ‘कैफीनयुक्त’ का लेबल लगाने का निर्देश देकर अपने अधिकार क्षेत्र का उल्लंघन किया है। कंपनी ने कहा था कि सभी कपों और गिलासों पर ‘कैफीनयुक्त’ का लेबल लगाना ‘अव्यावहारिक’ है और इस मामले में खाद्य सुरक्षा मानकों की व्याख्या गलत तरीके से की गई है।  हालांकि काम्बले ने कहा कि 2011 के खाद्य सुरक्षा कानून के तहत क्रियान्वित 2006 के खाद्य सुरक्षा एवं मानक कानून में स्पष्ट तौर पर कहा गया है कि कैफीनयुक्त उत्पादों पर चेतावनी लेबल लगाना आवश्यक है चाहे उसे किसी डिब्बे में उपलब्ध कराया जाए अथवा खुले में। पिछले महीने भारतीय खाद्य संरक्षा एवं मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआई) ने कोला सहित सभी बेवरिजेस कंपनियों के लिए उत्पाद में 145 मिग्रा प्रति लीटर से अधिक कैफीन पाए जाने पर चेतावनी लेबल लगाना अनिवार्य कर दिया था। यह नियम इस साल जुलाई से लागू होगा। कंपनियों को कहा गया है कि उत्पादों पर लेबल लगाकर यह बताया जाना चाहिए कि 500 मिली प्रति दिन से अधिक कैफीनयुक्त पेय नहीं लिया जाना चाहिए।

Share This Post

Post Comment