सराभा नगर के एक घर मे हर वक्त नई औरत का आना-जाना लगा रहना

भटिंडा, पंजाब/प्रदीपः आस-पड़ोस से मिली जानकारी अनुसार शाम चार बजे के करीब सराभा नगर के गली नम्बर चार भट्टी रोड़ मे उस समय हंगामा शुरु हुआ जब पवन मंगला उमर लगभग पचास साल पुत्र बावरचंद मंगला के घर मे हर रोज दिन मे किसी न किसी औरत का आना-जाना लगा रहता था आज भी जब कोई पहली बार देखी गई औरत को आस-पड़ौस की महिलायो ने अन्दर जाते देखा तो उन्होने अपने पतियों को बुलवा लिया और कुछ देर पछचात पवन मंगला के घर के अन्दर दाखिल हुये तो औरत अपातजनिक हालात मे पाई गई तो औरत और खुद पवन मंगला जो शराब का कारोबार करता है लोगो से माफी की भीख मांगने के अलावा कहने लगे कि आगे से ऐसी गलती बिल्कुल नही होगी और शादीशुदा होने के बावजुद भी इस घर मे अकेला रहता था थोड़ी ही देर मे मौके पर जो अपने-आप को पवन मंगला की बहन कहती थी ने लोगो को कहा ये तो है ही ऐसा । जब लोगो ने पुलिस को इतलाह दी जिसके बाद एक पीसीआर मोटर साइकिल पर पुलिस के दो जवान आने के बाद चले गये कुछ देर उपरांत ही थाना सिविल लाईन एसएचओ परमजीत सिंह ड़ोड़,सब इंस्पेक्टर रविंद्र पाल व कुछ जवान मौके पर पहुंचे उस समय उनके साथ कोई महिला पुलिस नही थी जब ये बात मिडिया के पास पहुंची तो मिडिया के आने से पहले ही थाना सिविल लाईन एसएचओ सिर्फ ओर सिर्फ पवन मंगला को ही आपनी पुलिस टीम के साथ लेकर चले गये और जब हमारे हैड़ क्राइम रिपोर्टर ने थाना सिविल लाईन के एसएचओ से मोबायल पर उस औरत को क्यो नही लेकर गये के बारे मे पुछा तो एसएचओ सिविल लाईन ने कहा की ये कोई सेक्स रेकट नही है (जहा तक की हमारे हैड़ क्राइम रिपोर्टर ने सिर्फ औरत को क्यो नही लेकर गये के बारे मे पुछा था तो एसएचओ सिविल लाईन ने ये क्यो कहा ) कि ये औरत उसकी साली है क्या किसी साली का अपने जीजे के पास आना गलत है और हमारी टीम अभी फिर से मौका स्थल पर पहुंच रही है तो जब फिर से सिविल लाईन के सब इंस्पेक्टर रविंद्र पाल अपनी टीम के साथ पहुंचे तब भी उनके साथ कोई महिला पुलिस नही थी तो सब इंस्पेक्टर रविंद्र पाल ने एक आम आदमी के साथ उस औरत को सफेद ऐक्टिवा पर भेज दिया ऐसा होने के बाद जब हमारे क्राइम रिपोर्टर ने सब इंस्पेक्टर से उनका नम्बर मांगा तो उन्होने नम्बर देने से मना कर दिया ! शाम को सात बजे के लगभग सिविल लाईन मुंशी से सब इंस्पेक्टर रविंद्र पाल का मोबायल नम्बर लेकर रिपोर्ट के बारे मे बात करनी चाही तो उन्होने ये कह कर मोबायल काट दिया कि एसएचओ साब से बात करो ।जहा गौर करने वाली बात ये है कि ये महौला शिरोमणि अकाली दल के बठिंड़ा प्रधान का है क्या इलेक्शन को नजदीक आता देख वोटे टूटने के ड़र से तो मामले को दबाया नही जा रहा ( क्या होता है ). 1:जब किसी औरत को हिरासत मे लेना होता है तो महिला पुलिस का होना चाहिऐ जहा पर तो एक नही दो बार पुलिस टीम आने पर भी महिला पुलिस साथ नही थी 2: जब भी कोई औरत या आदमी मौके पर पकड़ा जाता है उसे पुलिस टीम के सिवाये किसी और के साथ नही भेजा जाता

Share This Post

Post Comment