सैकड़ो छात्रों के भविष्य से खिलवाड़ और ठगी के आरोप गिरफ्तार

पटना, बिहार/नगर संवाददाताः बिहार की राजधानी पटना के बेउर थाना क्षेत्र में स्थित इन्डियन इंस्टीच्यूट ऑफ़ हेल्थ एजुकेशन एन्ड रिसर्च के निदेशक सह प्रदेश कांग्रेस पार्टी के बुद्धिजीवी प्रकोष्ठ के अध्यक्ष और बिहार हिंदी साहित्य सम्मेलन के अध्यक्ष डॉ अनील सुलभ को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। इंस्टीच्यूट द्वारा 3 साल का कोर्स पूरा होने के बाद भी सैकड़ो फाइनल ईयर के छात्रों का समय पर परीक्षा नहीं कराये जाने से नाराज छात्रों ने आज दूसरे दिन भी हंगामा किया था। छात्रों का आरोप था कि 3 साल का कोर्स पूरा कर जब इनके प्रोफेसनल बनने का समय आ गया है तो लगातार टालमटोल कर उनके भविष्य से खिलाड़ करने की साज़िश अनिल सुलभ द्वारा किया जा रहा है।वही अब तो छात्रों को लग रहा है की संस्थान ने उन्हें वो 3 साल का कोर्स कराया है जो फ़र्ज़ी है। हंगामा होने की जानकारी मिलने पर संस्थान के निदेशक अनिल सुलभ ने प्रदर्शनकारी छात्रों को समझाने की कोशिश के तहत बात चित करने लगे। लेकिन संस्थान के टालमटोल रवैये से नाराज छात्र उनकी वायदों पर एतबार करने को राज़ी नहीं दिख रहे थे। धीरे धीरे समझाने बुझाने की यर कोशिश बिगड़ती चली गई और उग्र छात्रों ने निदेशक अनिल सुलभ समेत अन्य गाड़ियों तोड़ने फोड़ने लगे। तोड़फोड़ होता देख संस्थान से जुड़े लोगो और सुरक्षा कर्मियों छात्रों से मारपीट करने लगे। देखते ही देखते संस्थान परिसर रणभूमि में तब्दील हो गया। इस दौरान इंस्टिट्यूट के 4 छात्र घायल हो गए। जिन्हें इलाज के लिए छात्रों ने आईजीएमएस में भर्ती कराया। इस दौरान हंगामे की खबर पाकर बेउर थानाध्यक्ष भी दल बल के साथ पहुच गए। ये तो शुक्र था कि पुलिस मौजूद थी वर्मा बवाल और बिध्वंसक रूख अख्तियार कर लेता।खैर बेउर थानेदार धीरेंद्र पांडेय ने किसी तरह उग्र छात्रों को समझा बुझाकर शान्त कराया और कानून सम्मत कार्रवाही करने का आश्वास देकर मामले को संभाला।  तब जाकर संस्थान की गुंडागर्दी और टालमटोल नीति से नाराज छात्रों ने बेउर थाना पहुचकर निदेशक अनिल सुलभ पर ठगी और मारपीट का मामला दर्ज कराया है। मामला दर्ज होते ही पुलिस द्वारा त्वरित कार्रवाही करते हुए अनिल को हिरासत में ले लिया। वही छात्रों ने अपने लिखित आवेदन में सैकड़ो विद्यार्थियों के भविष्य से खिलवाड़ करने के आलावे भी समेत ठगी चार सौ बीसी समेत तमाम व्यक्तिगति आरोप लगाये है। इसी आवेदन पर कार्यवाही करते हुए पटना पुलिस ने आईपीसी की 420 धाराओं से लेकर 471 तक की तमाम धाराओं के तहत मामला दर्ज करते हुए अनिल सुलभ को अदालत में पेश करने की तैयारी कर ली है।इन धाराओं के तहत मामला दर्ज होने से स्पष्ट है कि अदालत भी डॉक्टर सुलभ को जल्द जमानत नहीं देने जा रही।

Share This Post

Post Comment