महागठबंधन में दरार की उम्मीदें लगाए लोगों को बड़ा झटका

पटना, बिहार/नगर संवाददाताः पिता के नक्शे कदम पर चलते हुए बिहार के उपमुख्यमंत्री और लालू प्रसाद के बेटे तेजस्वी यादव ने बतौर पीएम बिहार के सीएम नीतीश कुमार का नाम पेश करके महागठबंधन में दरार की उम्मीदें लगाए लोगों को बड़ा झटका दिया है. तेजस्वी यादव ने रविवार को प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नाम का समर्थन किया. क्रिकेटर से राजनेता बने तेजस्वी ने पटना में मीडिया को संबोधित करते हुए कहा, ”कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी प्रधानमंत्री पद के काबिल हैं, लेकिन नीतीश कुमार प्रधानमंत्री बनते हैं तो मुझे ज्यादा खुशी होगी.” तेजस्वी यादव ने कहा कि वह नरेंद्र मोदी को 2019 के आम चुनाव के बाद प्रधानमंत्री के तौर पर नहीं देखते हैं. इस महीने के शुरुआत में तेजस्वी यादव ने कहा कि नीतीश कुमार अगले प्रधानमंत्री बनने के लिए मोदी से अधिक सक्षम हैं. पहले ही तेजस्वी यादव, नीतीश कुमार को अपना ‘राजनीतिक गुरु’ बता चुके हैं. तेजस्वी ने ये भी स्वीकार किया कि उन्हें बिहार के मुख्यमंत्री से बहुत कुछ सीखने को मिला है. दिलचस्प बात ये है कि राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव ने शनिवार को राहुल गांधी के बजाए नीतीश कुमार के नाम का प्रधानमंत्री पद के लिए समर्थन किया. पटना के राजनीतिक हलकों में मजबूत अटकलें हैं कि जदयू राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार  प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ एक संयुक्त विपक्ष के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में पेश किए जाने के लिए उत्सुक हैं.

Share This Post

Post Comment