मासूम बेटे की आंखों के लिए धरने पर बैठा एक पिता

मुजफ्फरनगर, यूपी/नगर संवाददाताः यूपी के मुज़फ्फरनगर जिले में एक झोलाछाप डॉक्टर की वजह से एक मासूम की जिंदगी अंधेरे में डूब गई है. न्याय के लिए दर-दर भटकने के बाद अब मासूम का पिता धरने पर बैठ गया है. मामला मुज़फ्फरनगर के थाना मीरापुर क्षेत्र का हैं, जहा मीरापुर निवासी इरशाद अपने बेटे अयान को आंख में तिनका गिर जाने के बाद पास के ही एक डॉक्टर के क्लीनिक पर ले कर गया. जिसके बाद झोलाछाप डॉक्टर के द्वारा सही तरह से इलाज़ ना किये जाने से धीरे-धीरे मासूम के आंखों की रोशनी चली गई. अब पीड़ित पिता अपने बेटे को इंसाफ दिलाने के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहा है. जब पीड़ित पिता को कहीं से भी इंसाफ नहीं मिला तो इरशाद गुरुवार को अपने पांच साल के मासूम के साथ जिला चिकित्साधिकारी के मेन गेट पर धरने पर बैठ गया और अपने मासूम बेटे की आंखे वापस दिलाने की मांग पर डटा हुआ है. पीड़ित पिता इरशाद ने चीफ मेडिकल ऑफिसर से आरोपी झोला छाप डॉक्टर के खिलाफ कार्यवाई करने और खुद को इंसाफ दिलाने की गुहार लगाई है. पीड़ित इरशाद ने बताया कि मैं मीरापुर वार्ड न.1 का सभासद हूं. 2 जुलाई को मेरे बेटे अयान की आंख में तिनका गिर गया था. मेरी पत्नी अयान को डॉ गुलज़ार के क्लीनिक पर ले गई जहां मासूम का इलाज हुआ. डॉ गुलजार की लापरवाही से मेरे बेटे अयान की आंख की रोशनी बिलकुल खत्म हो गई है. अब मैं न्याय के लिये दर-दर की ठोकरें खा रहा हूं लेकिन इस मासूम की आंख ठीक नहीं हुई और ना ही अभी तक झोलाछाप डॉ गुलजार के खिलाफ कोई कार्यवाई हुई. वहीं सीएमओ ने कहा पीड़ित के साथ इंसाफ किया जायेगा और झोलाछाप डॉक्टर के खिलाफ जांच कर क़ानूनी कार्यवाई की जाएगी. साथ ही पीड़ित को हर सम्भव मदद का भी दिलासा चिकित्साधिकारी ने दिया.

Share This Post

Post Comment