शौचालय नहीं होने पर पहली कार्रवाई, ढाबे में निगम ने लगाया ताला

रायपुर, छत्तीसगढ़/मालती दासः राजधानी को खुले में शौचमुक्त शहर बनाने की दिशा में सख्ती शुरू कर दी है। सोमवार को महासमुंद रोड पर स्थित करारा ढाबा में ताला जड़कर सीलबंदी की पहली कार्रवाई की। यहां निगम अधिकारियों को गंदगी और फफूंद लगा गाजर मिला तो ढाबा मालिक पर 10 हजार जुर्माना भी किया। नगर निगम ने 14 अगस्त से होटल, रेस्टोरेंट, ढाबा और दूसरे व्यवसायिक स्थलों में शौचालय नहीं होने पर निगम की वेबसाइट में फोटो के साथ शिकायत करने पर कार्रवाई की व्यवस्था लागू की है। राजस्व अधिकारी अरुण कुमार दुबे ने बताया कि महासमुंद रोड पर मैग्नेटो मॉल के सामने देवेंद्र सिंह, की निजी जमीन पर किराएदार सरबजीत सिंह भाटिया करारा ढाबा का संचालन करते हैं। तमाम नियमों को दरकिनार कर ढाबा चलाया जा रहा था। इस कारण मुख्यालय उड़नदस्ता और जोन-4 का राजस्व व स्वास्थ्य विभाग अमले ने ढाबे में छापा मारा। जांच में सबसे पहले तो यहां शौचालय नहीं पाया गया। निगम की अनुमति के बिना होर्डिंग्स लगाया गया था। ढाबा निर्माण का स्वीकृत नक्शा संचालक पेश नहीं कर पाए। संपत्तिकर का भुगतान भी नहीं किया जा रहा था। ढाबे में किचन से लेकर सभी तरह गंदगी मिली। गाजर और दूसरी खाद्य सामग्रियां खराब मिलीं। निगम अधिकारियों ने आयुक्त रजत बंसल को पूरी रिपोर्ट दी, तो आयुक्त ने ढाबा को तत्काल सील करने का निर्देश दिया। उन्होंने गंदगी पर जुर्माना लगाने के लिए भी कहा। खराब खाद्य सामग्रियों को नष्ट किया।

Share This Post

Post Comment