अधिकांश परीक्षाओं में फर्जीवाड़ा जितने गिरोहों पर शक सभी बाहरी

रायपुर, छत्तीसगढ़/मयुर जैनः रायपुर छत्तीसगढ़ में होने वाली भर्ती और प्रतियोगी परीक्षाओं में फर्जीवाड़े में जितने भी लोग पकड़े गए या फरार हैं, सभी दूसरे राज्यों के ही हैं। पर्चा लीक करने से लेकर फर्जी परीक्षार्थी बिठाने के मामले में प्रदेशभर में बाहरी गिरोहों की सक्रियता बढ़ गई है। छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल की भर्ती परीक्षा में भी जिन परीक्षार्थियों पर फर्जी होने का आरोप है,वे उत्तरप्रदेश के हैं और कोचिंग सेंटर से जुड़े हैं। ये परीक्षार्थी संबंधित कोचिंग सेंटर को टॉपर भी हैं। पुलिस ने तीनों की गिरफ्तारी के लिए दबाव तो बनाया है,लेकिन आरोपी अब तक नहीं मिले हैं। सभी के घरों में पुलिस ने नोटिस दिया है कि उन्हें पुलिस के सामने पेश किया जाए। तीनों की तलाश में एक टीम जल्दी ही उत्तर प्रदेश भेजी जाने वाली है। पुलिस अफसरों ने बताया कि सीएएफ की भर्ती परीक्षा के लिखित टेस्ट में 4 हजार 704 बाहरी लड़के शामिल हुए थे। इसमें बहुत कम लोग पास हुए थे। जबकि चर्चा है कि जिन परीक्षार्थियों की जगह मुन्नाभाई बैठे थे,उनका भी चयन हुआ था। नियुक्ति पत्र लेकर आरोपी रायबरेली चले गए थे। वहां से डीजीपी को पत्र आने के बाद मामला फूटा और वरिष्ठ अफसरों से परीक्षा की जांच कराई गई। आरोपियों के दस्तखत का मिलान कराया गया,तब मामला फूटा। एडिशनल एसपी सिटी विजय अग्रवाल ने बताया कि परीक्षा में प्रोफेशनल गिरोह सक्रिय है। छग में एक भी ऐसा गिरोह नहीं है,जो इस तरह का काम करते हैं। इस तरह के अपराध में यूपी, बिहार व दिल्ली के गिरोह सक्रिय हैं। इन राज्यों के ज्यादातर छात्र परीक्षा की तैयारी करने बाहर जाते हैं। अच्छे नंबर आने के बाद भी जब खुद का चयन नहीं होता तो पैसा के लिए गिरोह चलाते हैं।

Share This Post

Post Comment