बद्रीनाथ-पौड़ी राष्ट्रीय राजमार्गों पर मनाही के बावजूद डाले जा रहे मलबें के ढेर

टिहरी गढ़वाल, उत्तराखंड/नगर संवाददाताः श्रीनगर गढ़वाल में बद्रीनाथ और पौड़ी राष्ट्रीय राजमार्गों के किनारे मनाही के बावजूद बेखौफ भवन निर्माण सामग्री का मलबा डाला जा रहा है. हालत यह है कि हाईवे के किनारों पर मलबा न डाले जाने के लगाए गए चेतावनी बोर्डों को मलबे के ढेर मुंह चिढ़ा रहे हैं. हाईवे के किनारों पर डाले जा रहे मलबों के ढेर से जहां हाईवे संकरे हो रहे हैं वहीं, भूस्खलन की चपेट में भी आ रहे हैं. ऋषिकेश-बद्रीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग पर एनआईटी के निकट हाईवे और आवासीय क्षेत्र को अलकनन्दा नदी के कटाव से बचाने के लिए बनाई गई सुरक्षा दीवार पर भी इस कारण ढहने का खतरा मंडरा रहा है. खास बात यह है कि इस स्थान पर लोक निर्माण विभाग के राजमार्ग खंड की ओर से मलबा न डालने का चेतावनी बोर्ड भी लगाया गया है. चेतावनी बोर्ड लगे होने के बावजूद बेधड़क भवन और अन्य निर्माणकर्ताओं की ओर से खुलेआम निर्देशों की अवहेलना करते हुए धड़ल्ले से रोज टनों मलबा ट्रकों से यहां उड़ेला जा रहा है. ऐसा नहीं है कि स्थानीय पुलिस प्रशासन और लोनिवि राजमार्ग खंड के इस स्थान से गुजरते अधिकारियों की नजर यहां बढ़ रहे मलबों के ढेर पर ना जा रही है, लेकिन जानने के बावजूद उनकी खामोशी मलबा डालने वालों की हिम्मत बढ़ा रही है. दूसरी तरफ मेरठ-पौड़ी-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर गंगा दर्शन मोड़ के निकट भी भवन निर्माण सामग्री के मलबों के ढेर से हाईवे पर भूधंसाव हो रहा है. बावजूद इसके आज तक ये मलबों के ढेर डालने वालों को पकड़ने की कोशिशें ही नहीं की जा रही हैं. लोनिवि राजमार्ग खंड के अधिशासी अभियंता जितेन्द्र कुमार त्रिपाठी का कहना है कि उक्त स्थानों पर मलबा न डालने सम्बन्धी चेतावनी बोर्ड लगाए गए हैं और स्थानीय प्रशासन से भी इस मामले में मदद ली जाएगी. इस मामले में तहसीलदार वेदपाल सिंह चौधरी का कहना है कि पहले हाईवे के किनारों पर मलबा डालने वालों के खिलाफ कार्रवाई की गई थी. उनका कहना है कि मामले के फिरसे संज्ञान में आने के बाद राजस्व कर्मियों को भेजकर जांच पड़ताल करवायी जाएगी और पकड़े जाने पर सम्बन्धितों के खिलाफ वैधानिक कार्यवाही की जाएगी.

Share This Post

Post Comment