पहाड़ी इलाकों में भारी बारिश से आई बाढ़

टिहरी गढ़वाल, उत्तराखंड/नगर संवाददाताः मौसम विभाग के अलर्ट के बाद गुरुवार देर रात उत्तराखंड के पहाड़ी और मैदानी इलाकों में मेघ जमकर बरसे। पहाड़ी इलाकों में आफत की इस बारिश ने एक बार फिर 2013 में आई आपदा की याद दिला दी। नदियों में आई बाढ़ से कई घर बह गए और दो लोगों के भी बहने की खबर है। गढ़वाल के पहाड़ी इलाकों मे भारी बारिश के कारण अलकनंदा ऊफान पर आ गई और 2013 की आपदा जैसा मंजर आंखों के सामने फिर से आ गया। नदी किनारे रहने वाले लोग खौफ में आकर अपने घर छोड़कर सुरक्षित स्‍थान पर चले गए हैं। चमोली जनपद के घाट विकास खंड में मंदाकिनी नदी में बाढ़ आने से पुराने बाजार में स्थित दो मकान बह गए। एक बच्चे और बुजर्ग के बहने की भी खबर है।घाट विकास खंड में नदी के तेज बहाव के कारण कई भवन भी खतरे की जद में आ गए हैं। वहीं बीएसएनल की संचार सेवा भी ठप हो गई है। प्रशासन के अधिकारियों से संपर्क नहीं हो पा रहा है। गोपेश्वर में गुरुवार रात्रि से हो रही बारिश से नदियां और गदेरे ऊफान पर आ गए हैं। नदियों से घाट और दशोली ब्लॉक के गांवों में काफी नुकसान होने की सूचना है।जिले में कई जगह हाईवे बंद हो गए हो गए। चमोली के पास हाईवे पर सैकडों तीर्थ यात्रियों के फंसने की खबर है। वहीं सिरोली गांव में दो लोगों के लापता होने की खबर है।

Share This Post

Post Comment