अल्मोड़ा नगर में हर साल गर्मियों में पेयजल की भारी किल्लत

अल्मोड़ा, उत्तराखंड/नगर संवाददाताः अल्मोड़ा नगर में हर साल गर्मियों में पेयजल की भारी किल्लत रहती थी, इस बार गर्मियों में पानी की किल्लत नही हुई, बारिश शुरु होते ही गंदा पानी और पेयजल संकट शुरु हो गया है. लोगों को पीने के पानी के लिए कई दिनों तक इंतजार करना पड़ रहा है. बारिश के कारण गाद आने से पंपों में तकनिकी खराबी आ रही है. पंपिग योजना के साथ ही राजनिती भी शुरु हो गई है. उत्तराखण्ड में पेयजल किल्लत से अल्मोड़ा और पौड़ी जिले सबसे अधिक प्रभावित है. अल्मोड़ा जिले में एक दर्जन पंपिग योजनाएं निर्माणाधीन हैं , अल्मोड़ा नगर की पेयजल किल्लत के लिए कोसी बैराज का निर्माण किया गया है. गर्मियों में अल्मोड़ा जनपद के कई गांवों में पेयजल की भारी किल्लत रही लेकिन मुख्यालय में बैराज बनने से पानी भरपूर मात्रा में मिला. अब बारिश शुरु होते ही नगर में पानी की किल्लत शुरु हो गई है. आगामी चुनावों को देखते हुऐ भाजपा इसे चुनावी मुददा बनाना चाहती हैं कि बैराज निर्माण में तकनिकी खामी हैं जिससे नगर के पेयजल योजना प्रभावित हो रही है. आगामी विधानसभा चुनावों के लिए पानी को लेकर भाजपा और कांग्रेस में जंग शुरू हो गई है. नगर में पानी को लेकर ही एक दूसरे को नीचा दिखा रहें हैं, भाजपा कोसी बैराज को पूरा क्षेय स्थानीय विधायक मनोज तिवाड़ी को नहीं देना चाहती है. तो विधायक भी विपक्ष से सहयोग करने की अपील कर रहे हैं.

Share This Post

Post Comment