एक्साइज अफसर समेत आधा दर्जन से अधिक लोगों के खिलाफ हुआ आरोप दर्ज

जबलपुर, मध्यप्रदेश/नगर संवाददाताः लोकायुक्त पुलिस जबलपुर ने कटनी कलेक्टर प्रकाश जांगरे और जिला आबकारी अधिकारी (डीओ) आरसी त्रिवेदी समेत आधा दर्जन से अधिक लोगों के खिलाफ पद के दुरुपयोग और भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत अपराध दर्ज किया है। कलेक्टर जांगरे और डीओ त्रिवेदी पर आरोप है कि साल 2016-17 के लिए कटनी जिले में शराब ठेकों की नीलामी में कुछ ठेकेदारों को लाभ पहुंचाने के लिए बिना अर्नेस्ट मनी के शराब ठेके शुरू करा दिए थे। इससे शासन को 6 करोड़ का आर्थिक नुकसान हुआ है। कलेक्टर के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के पीछे लोकायुक्त पुलिस का तर्क है कि किसी भी शराब नीलामी प्रक्रिया में कलेक्टर लाइसेंस अथॉरिटी होता है। साल 2106-17 में जो गड़बड़ी कटनी जिले में हुई उसमें कलेक्टर जांगरे ने बिना तफ्तीश किए ठेके की प्रक्रिया शुरू करवा दी थी। इससे उनकी भूमिका संदिग्ध पाई गई है। लिहाजा उनके खिलाफ पद का दुरुपयोग और भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत अपराध दर्ज किया गया है। इसके अलावा आबकारी अधिकारी आरसी त्रिवेदी और आबकारी ठेका प्रभारी बद्रीप्रसाद शुक्ला समेत अन्य के खिलाफ धारा 420, 120 बी के तहत भी प्रकरण दर्ज किया गया है। ये है मामला उल्लेखनीय है कि कटनी जिले में इस वर्ष शराब ठेके की नीलामी प्रक्रिया के दौरान ठेकेदारों ने 34 डीडी दी थीं। इसमें पांच करोड़ रुपए की 13 डीडी बैंक से क्लीयर होकर आबकारी के खाते में जमा हो गई थीं, लेकिन 8 करोड़ 20 लाख रुपए की 21 डीडी क्लीयर नहीं हो पाई थी। जो डीडी क्लीयर हो गईं थीं, उनके रुपयों को वापस करने के लिए बैंक प्रबंधन द्वारा आबकारी विभाग को पत्र लिखे गए थे, लेकिन आबकारी विभाग ने पैसे जमा करने से मना कर दिया था। इसके बाद बैंक प्रबंधन ने कोतवाली कटनी में शिकायत दी थी और फिर पुलिस जांच में फर्जी डीडी कांड का खुलासा हुआ था। इसमें 27 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था।

 

Share This Post

Post Comment