गैंगरेप की शिकार युवती ने खुदखुशी से पहले लिखा “न्याय की आस नहीं”

दुर्ग, छत्तीसगढ़/नगर संवाददाताः छत्तीसगढ में गैंगरेप की शिकार 21 साल की लडकी ने खुदकुशी कर लिया था। लडकी ने 2 पुलिस कॉन्स्टेबलों और एक डॉक्टर पर 6 महीने तक रेप करने का आरोप लगाया था। इस मामले में पिछले साल जनवरी में मामला भी दर्ज हुआ था। लडकी ने भिलाई स्थित अपने घर में खुदकुशी की है। वहां से एक सुसाइड नोट भी मिला है, जिसे पढकर लगता है कि उसे न्याय मिलने की उम्मीद नहीं थी। लडकी ने सुसाइड नोट में अपनी मौत के लिए तीनों आरोपियों को जिम्मेदार ठहराया है। उसने खुदखुशी करने से पहले लिखा था कि “अगर मैं मर जाऊंगी तो फिर कोई मुझे वेश्या नहीं बुलाएगा। न्याय मिलने की उम्मीद बहुत कम है। जब भी मैं कोर्ट जाती हूं, तो बताया जाता है कि जज अदालत में नहीं हैं।”

Share This Post

Post Comment