विदेशों में जमा कालेधन को वापस लाने में सरकार की अक्षमता से लोगों में ‘निराशा’ पैदा हो रही- बाबा रामदेव

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः योगगुरु बाबा रामदेव ने कहा कि विदेशों में जमा कालेधन को वापस लाने में सरकार की अक्षमता से लोगों में ‘निराशा’ पैदा हो रही है। हालांकि उन्होंने दावा किया कि उनके तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच कोई अनबन नहीं है। रामदेव ने कहा कि जहां भी मैं जाता हूं, लोग मुझसे पूछते हैं ‘बाबा क्या काला धन वापस लाया गया’। इसलिए मैंने नई रणनीति बनाई है। मैं कहता हूं हां.. काला धन अब तक वापस नहीं आया। इसलिए कालेधन जैसे कुछ मुद्दों से (नरेंद्र मोदी सरकार के खिलाफ) लोगों में निराशा पैदा हो रही है। उन्होंने कहा कि 80 प्रतिशत कालाधन देश में ही है और इसका केवल 10.20 प्रतिशत विदेश में है। उन्होंने कहा कि सबसे ज्यादा कालाधन खनन, फिर सोने, जमीन, राजनीति और मादक पदार्थ में है। अगर हम इन पांच क्षेत्रों में कालेधन पर लगाम कसें तो यह हमारी अर्थव्यवस्था के लिए बहुत लाभदायक होगा। इस सुझाव पर कि उन्होंने बैंकिंग सेक्टर पर भी धावा बोलना चाहिए, रामदेव ने कहा कि वह इस बारे में ‘गंभीरता’ से विचार कर रहे हैं। उन्होंने दावा किया कि उनके तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच कोई अनबन नहीं है। रामदेव ने एक न्‍यूज चैनल के कार्यकम में कहा कि पिछले 15 वर्ष से एक बार भी ऐसा नहीं हुआ जब मेरी मोदी जी से बहस हुई हो। मैं दो तीन महीनों में एक बार मोदी जी से बात करता हूं। अगर मुझे देश से जुड़े किसी मुद्दे पर कोई राय देनी होती है तो मैं (अरुण) जेटली जी से बात करता हूं। मैंने काले धन के मुद्दे पर उनसे बात की है।

Share This Post

Post Comment