बंद चूना पत्थर खदानों से पानी नहरों में पहुंचा दिया गया

रायपुर, छत्तीसगढ़/नगर संवाददाताः राजधानी में ऐसा पहली बार हो रहा है जब बंद चूना पत्थर खदानों से पानी नहरों में पहुंचा दिया गया और वहां से खेतों में। जिले में मंदिरहसौद समेत कई गांवों में पानी की कमी है। यही वजह है कि जब पहली बार सूखी नहर से पानी खेतों में पहुंचा तो लोगों के चेहरे खिल गए। इस पानी से करीब 350 एकड़ खेतों को सींचने की तैयारी हो रही है। नया रायपुर से लगे नकटी गांव में बंद चूना पत्थर खदान से 1 करोड़ 60 लाख लीटर पानी नहर में पहुंचाया जा रहा है। इसके लिए 10-10 होर्स पॉवर के तीन पंप लगाए गए हैं। अब मांढर की तीन और 150 से 200 फीट गहरी बंद चूना पत्थर खदानों में भी पंप लगाकर नहर में पानी लाने की तैयारी की जा रही है। खदानों से नहरों तक पानी लाने में मुख्य भूमिका निभाने वाले ग्रामीण विधायक सत्यनारायण शर्मा, पूर्व ग्रामीण अध्यक्ष पंकज शर्मा, राकेश चतुर्वेदी, राकेश दुबे, कल्याण सिंह ठाकुर, मोटूमल आडवाणी, मंदिरहसौद की सरपंच धनमत गायकवाड ने बताया कि बंद खदानों में सालभर पानी भरा रहता है। एक चूना पत्थर खदान में जितना पानी है उससे चार तालाब भरे जा सकते हैं। मंदिर हसौद में जल दान उत्सव कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह को भी इस योजना की जानकारी दी गई। उन्होंने इस प्रयोग की सराहना करते हुए विशेषज्ञों की एक समिति बनाने की घोषणा की है।

Share This Post

Post Comment