गौ सेवा के लिए हुए एकजुट

जयपुर, राजस्थान/भागचंद कुमावतः चारागाह भूमि के संबंध में तपोस्थली भूमि डूंगरी कलां तहसील फुलेरा जिला जयपुर राजस्थान में आस पास की सभी गौशालाओं के प्रतिनिधियों की बैठक का आयोजन महाराज श्री बालमुकुंदा चार्य जी की अध्यक्षता में आयोजित की गई। जिसमें सभी गौ सेवकों ने प्रश्न उठाया की चारागाह भूमि को राज्य सरकार के द्वारा अधिग्रहण करने के विरोध में प्रस्ताव रखा सरकार द्वारा गौचार भूमि पर अधिग्रहण न हो तथा भूमि की किस्म को कभी भी नहीं बदली जाये। जहां पर भी ग्राम पंचायतों की गौचर भूमि जेडीए द्वारा अधिग्रहण कर ली गई है। वहां पर करीबन 300 बीघा भूमि है तथा वहां पर गौशाला है उसमें से करीब एक चैथाई हिस्सा 70-80 बीघा भूमि गौशाला के नाम से भूमि आरक्षित की जाये। होलेस्टर एवं जर्सी गायों के संबंध में आज की बैठक में निर्णय हुआ कि राज्य सरकार से अनुरोध किया जाये तथा इसका हल सरकार ही निकाले। इन गायों को व बछड़ों को लोग छोड़ देते है जो कि किसानों की फसलों को नष्ट कर देते है। सभी गौ सेवकों ने मुद्रा उठाया की पिछले दो वर्ष से किसी भी गौशाला में गायों के भरण पोषण के लिए मुआवजा राशि नहीं मिली है। इसके लिए राज्य सरकार से मांग की जाये तथा गौमंत्रालय के लिए अलग से बजट दिया जाये। सभी गौसेवकों ने श्री श्री 108 श्री हीरापुरी जी महाराज के सनिग्ध में गौसेवा प्रतिनिधि समिति का गठन किया। जिसमें अध्यक्ष श्री रमेश चंद जी शर्मा ग्राम बेगस, सचिव श्री विष्णु जी पारीक व अन्य कई गौसेवकों को सदस्य बनाया गया और सभी ने एक जुट रह कर गौ सेवा करने का संकल्प लिया।

Share This Post

Post Comment