सरकार गठन को लेकर गतिरोध जारी, फंसी महबूबा मुफ्ती

जम्मू, जम्मू कश्मीर/अमितः जम्मू कश्मीर में सरकार गठन को लेकर गतिरोध जारी है। पीडीपी और भाजपा दोनों ने इस मुद्दे पर विचार के लिए औपचारिक या अनौपचारिक रूप से कोई प्रक्रिया शुरू नहीं की है। पीडीपी अध्‍यक्ष महबूबा मुफ्ती ने जम्‍मू में हाल में पार्टी की बैठक में स्‍पष्‍ट किया था कि वे तब तक भाजपा के साथ मिलकर सरकार नहीं बनायेंगी जब तक केन्‍द्र सरकार, राज्‍य के लिए विश्‍वास बहाली के उपायों से अनुकूल माहौल नहीं बनाती। जम्मू कश्मीर में पूर्व मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद के निधन के बाद सरकार गठन को लेकर पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पी.डी.पी.) अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने आज खुद को एक दयनीय स्थिति में फंसा दिया है। प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के साथ गठबंधन को लेकर उनके पिता के फैसले के बाद उनका विरोध हुआ। पिछले महीने मुफ्ती मोहम्मद सईद के निधन के बाद महबूबा ने स्वयं को गंभीर विरासत के साथ छोड़ दिया है। पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती गठबंधन एजेंडे से अलग भी कुछ चाहती हैं, जिसे मंजूर करना भाजपा के लिए मुश्किल हो रहा है। पीडीपी अब विश्वास बहाली के नाम पर उन शर्तों को आगे कर रही है जो कभी पीडीपी-कांग्रेस के न्यूनतम साझा कार्यक्रम में शुमार थे। वोट बैंक को साधने का पीडीपी का यह नुस्खा भाजपा के गले में अटक गया है। लिहाजा रियासत में अभी राज्यपाल शासन के बने रहने के आसार हैं। मुफ्ती मोहम्मद सईद के निधन के बाद महबूबा को अपने जनाधार का किला ढहता नजर आ रहा है। अनंतनाग और बिजबिहेड़ा जैसे दुर्ग में अवाम भाजपा से गठबंधन के खिलाफ रही है।

Share This Post

Post Comment