तीन महीने के अंतराल के बाद एक बार फिर काली कमाई

मयूर जैन, रायपुर/छत्तीसगढ़ः आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो एवं एसीबी की टीम ने तीन महीने के अंतराल के बाद एक बार फिर काली कमाई व अनुपातहीन संपत्ति की शिकायत के बाद के 9 सरकारी अधिकारियों के घर छापामार कार्रवाई की। जिसमें करोड़ों की संपत्ति का खुलासा हुआ है। रायपुर, मुंगेली, बिलासपुर, धरसींवा, बलौदाबाजार, धमतरी समेत कई जिलों में कार्रवाई जारी है। एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) ने बड़ी कार्रवाई करते हुए आज राजधानी सहित उपरोक्त शहरों में पदस्थ 9 अधिकारियों के 18 ठिकानों पर छापेमारी की कार्रवाई की जा रही है। भारतीय प्रशासनिक वन सेवा के अधिकारी शिवशंकर बडगया डीएफओ बलौदाबाजारके यहां 3 मकान , रायपुर में घर और 18 अन्य जमीनों के कागजात मिले हैं। इसके अलावा कई गाडिय़ां व जेवरात भी बरामद हुए हैं।जिनकी कीमत करोड़ों में है। एस के बघेल मुख्य चिकित्सा अधिकारी मुंगेली के यहां बिलासपुर मुंगेली में दो घर, चार पहिया वाहन और 20 लाख रुपए नगद मिलाकर लगभग डेढ़ करोड़ी की संपत्ति मिली है। गोरेलाल ठाकुर एसपीपी कृषि विश्वविद्यालय रायपुर के यहा 60 लाख का मकान, डॉल्फिन कॉलोनी में 13 लाख का फ्लैट, जमीन एवं बैंक खातों से संबंधितकागजात और 24 लाख के एफडीआर. मिले हैं। कार्रवाई अभी भी जारी है। रामशरण नायक खंड अधिकारी बीईओ के यहां 2 मकान, 32 लाख नकद, 11 एकड़ जमीन और जेवरात मिलाकर करोड़ों की संपत्ति मिली है। टेकराम वर्मा रेंजर दुगली धमतरी के यहां 3.30 लाख नकद जेवरात और जमीन के कागजात मिलाकर करीब डेढ़ करोड़ की काली कमाई उजागर हुआ है। एमएम जोशी, उप सचिव, खादी ग्रामोद्योग, रायपुर के यहां 3.80 लाख नकद, रायपुर में १ करोड़ का मकान, तखतपुर में 11 एकड़ जमीन, 15 लाख के बीमा सहित जमीन और बैंक खातों के कागजात जब्त हुए हैं। टी.आर. कुंजाम कार्यपालन अभियंता, लोक निर्माण विभाग रायपुर के घर 51.81 लाख नकद, 1 किलो 200 के सोने चांदी के जेवरात सहित जमीन और बैंकों के कागजात मिले हैं। ए.एम कपासी, वन मंडल अधिकारी रायपुर के घर छापे में 8 लाख नकद, 90 लाख कीमत की एक फैक्ट्री, एक पेट्रोल पंप, लाखों के जेवरात, 2 बैक लॉकर, रायपुर में करोड़ों की लागत का बंगला मिला है।केके बिसेन, सचालक सह वन मंडलाधिकारी, नंदनवन जू एवं सफारी रायपुर के यहां तलाशी में 506 ग्राम के जेवरात, रायपुर में 80 लाख की कीमत का मकान और बैंक खातों के कागजात मिले हैं। इन अधिकारियों के पास से लगभग 25 करोड़ से अधिक की सम्पत्ति का खुलासा हो सकता है।ईओडब्लू एवं एसीबी के प्रमुख मुकेश गुप्ता ने प्रारंभिक तौर पर उपरोक्त जानकारी दी साथ ही यह पूछे जाने पर कि इनसे सम्पत्ति कितनी मिली तो उन्होंने बताया कि अभी कुछ भी खुलासा नहीं किया जा सकता। अभी भी कार्रवाई जारी है।

Share This Post

Post Comment