लॉकडाउन में शहर में पसरा रहा सन्नाटा

उत्तर प्रदेश, गौरव भाटिया: तीन दिवसीय लाकडाउन का पहला दिन सफल रहा लेकिन यह सफलता पुलिस से ज्यादा कोरोना के खौफ की थी। लगातार बढ़ते संक्रमण के मामलों ने लोगों को घरों में ही रहने को विवश कर दिया है। कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सरकार ने 10 जुलाई की रात 10 बजे से 13 जुलाई तक लाकडाउन की घोषणा की है। चूंकि घोषणा एक दिन पहले ही कर दी गई थी इसलिए लोगों ने जरूरी सामान समय रहते खरीद कर रख लिया। सब्जी राशन आदि लोगों ने एक दिन पहले ही खरीद कर रख लिया।
शनिवार को सुबह से ही सड़कों पर सन्नाटा पसरा दिखा। शहर के व्यस्तम चौपुला, अय्यूब खां, कुतुबखाना, सेटेलाइट चौराहे पर सन्नाटा पसरा रहा। चौराहों पर केवल पुलिस तैनात थी। सड़क पर इक्का.दुक्का लोग ही आते-जाते दिखे। जब उनसे पूछताछ हुई तब पता चला कि कोई अस्पताल जा रहा है तो कोई दवा लेने घर से निकला है।
बाजार भी पूरी तरह से रहा बंद शहर के सभी प्रमुख बाजार शनिवार को पूरी तरह से बंद रहे। गली-मोहल्लों की अधिकांश दुकानें भी नहीं खोली गईं। केवल मेडिकल स्टोर खुले थे। कुछ जगहों पर सब्जी व फल के ठेले जरूर दिखे। लेकिन आम दिनों की अपेक्षा इनकी संख्या बहुत कम थी। कुतुबखाना, श्यामगंज, बड़ा बाजार, कोहाड़ापीर, आलमगीरीगंज आदि इलाकों के बाजार में दुकानें नहीं खुलींै बंदी पर नजर रखने के लिए इन बाजारों में पुलिस फोर्स मुस्तैद रहा। शहर के चौराहों पर पुलिस मुस्तैद रही।

Share This Post