मोहाली: पिता के रिवाल्वर से बेटे ने खुद को उड़ाया, मां की मौत के बाद डिप्रेशन में था

मोहाली/अमित शर्मा : मोहाली के फेज.10 में गुरुवार को उस समय सनसनी फैल गई, जब एक लड़के ने घर पर ही अपने पिता की रिवाल्वर से अपने सिर पर गोली चलाकर जान दे दी। मृतक की पहचान 17 साल के हरदात सिंह के रूप में हुई है। वह सेक्टर.27 स्थित सेंट जोंस स्कूल में 12वीं कक्षा की पढ़ाई कर रहा था। सूचना पर पहुंची पुलिस ने मृतक के शव को सिविल अस्पताल की मार्चरी में रखवा दिया है। वहीं, रिवाल्वर को कब्जे में ले लिया है। शुक्रवार को शव का पोस्टमार्टम करवाकर उसके परिजनों को सौंप दिया जाएगा। थाना फेज.11 की पुलिस ने इस मामले में फिलहाल 174 के तहत कार्रवाई की है। यह घटना फेज-10 के मकान नंबर-517 में शाम 4 बजे की है। पुलिस के मुताबिक जब यह घटना हुई तो उस समय घर पर उसकी सौतेली मां थी। गोली की आवाज सुन उसकी मां भागी और जब उसने देखा तो हरदात का खून से लथपथ शव पड़ा हुआ था और उसके हाथ में रिवाल्वर था।
मां की सूचना पर तुरंत पुलिस ने मौके पर पहुंचकर वारदात में इस्तेमाल की गई रिवाल्वर कब्जे में ले ली जो कि उसके पिता की लाइसेंसी है। पुलिस ने पूरे घटनास्थल से सैंपल लेकर आस-पास रहने वाले लोगों से भी पूछताछ की है, ताकि मामले की सच्चाई का पता चल सके।
वॉशरूम में जाकर चलाई गोली हरदात के परिवार के सदस्यों ने पुलिस को बताया कि वह अपने स्कूल से घर लौटा था और 4 बजे वॉशरूम में गया। इसके बाद दरवाजा अंदर से बंद कर लिया। वह रिवाल्वर को अंदर छुपाकर ले गया था। फिर खुद के सिर में गोली मार ली और हरदात की मौके पर ही मौत हो गई।
लगा जैसे गीजर में ब्लास्ट हुआ हरदात की मां ने पुलिस को बताया कि जब उसने गोली चलाकर जान दी थी तो बड़ी जोर से धमाका हुआ। उन्हें ऐसे लगा मानो वॉशरूम में गीजर फट गया हो। लेकिन हरदात ने अंदर से दरवाजा नहीं खोला। उन्होंने काफी शोर मचाया और फिर अपने पति को फोन किया और पुलिस कंट्रोल रूम को भी सूचित किया।

मां की मौत के बाद से डिप्रेशन में था थाना फेज-11 के एसएचओ कुलवीर सिंह ने बताया कि मृतक का परिवार मूलरूप से बठिंडा का रहने वाला है। उसकी मां की बचपन में ही मौत हो गई थी। उसी समय से वह परेशान रहता था और घर में ज्यादा किसी से बात नहीं करता था। उसके पिता ने दूसरी शादी कर ली थी और उसके पिता दूसरी पत्नी को और उसे मोहाली में ले आए थे।
अच्छी शिक्षा देने बठिंडा से आए थे मोहाली मृतक के पिता ने पुलिस को बताया कि बठिंडा से मोहाली में बच्चे को अच्छी शिक्षा देने के लिए लाए थे। अपना बिजनेस यहीं पर सेट कर लिया। चडीगढ़ के नामी कॉन्वेंट स्कूल में दाखिला दिलवाया, ताकि उसका मन पढ़ाई में लग जाए और अपनी मां की मौत का सदमा उसके दिमाग से दूर हो जाए। लेकिन ऐसा नहीं हुआ और बेटे की मौत ने उनका सब कुछ बर्बाद कर दिया है।

Share This Post