जब किसी और के लहू से बचती है किसी अपने की जान तब समझ आता है क्या होता है रक्तदान

पठानकोट, संजय पुरी: इसी कहावत को सच साबित करता है ब्लड डोनर्स पठानकोट (रजि) द्वारा आयोजित आज गाँव अखरोटा का रक्तदान कैम्प। 2 महीने पहले जब गांव के सरपंच जसबीर सिंह के भाई का एक्सीडेंट हुआ तो उनके भाई को रणदीप हॉस्पिटल सरना में ब्लड की जरूरत थी। तब उनको टीम ब्लड डोनर्स पठानकोट द्वारा 45 से ज्यादा यूनिट ब्लड उपलब्ध करवाया गया। तब उनको एहसास हुआ कि रक्तदान करने कितना जरूरी है। उन्होंने टीम ब्लड डोनर्स पठानकोट द्वारा गांव-गांव में रक्तदान के बारे में जागरूक करने की मुहिम में अपना योगदान देने की बात कही और टीम से अपने गांव में भी रक्तदान कैम्प लगाने की कही। टीम द्वारा उनके गांव में जा कर लोगो को रक्तदान के बारे में जागरूक भी किया गया। इसी मेहनत का फल है कि उनके गांव ने आज पहली बार रक्तदान कैम्प का आयोजन हुआ और 47 लोगो ने रक्तदान किया। इन 47 यूनिट ब्लड में 7 महिलाओं ने भी रक्तदान किया। गांव के लोगो ने संकल्प लिया कि आगे भी वो इस तरह रक्तदान के कैम्प का आयोजन करेंगे। टीम ब्लड डोनर्स पठानकोट की मुहिम का यह ही उद्देश्य है ज्यादा से ज्यादा लोगो को रक्तदान के प्रति जागरूक करना। सभी डोनर्स को सर्टिफिकेट दे कर सन्मानित किया गया। इस मौके पर कृष्ण मोहन, विक्की रेहान, संजय पूरी, मंजीत बग्गा, नीरज जंडियाल, मंकीर्त सिंह, सनी, मनदीप, जसबीर सिंह, सुरिंदर सिंह, रंजीव, सरबजीत सिंह, नरेश कुमार, सूखा, गोपी, राजन, नीतू बाला, सरबजीत कौर, रीना, सुषमा, सोहन सिंह और ब्लड बैंक स्टाफ विकास, नेहा, लकी, अजय, मोहित, बंसीलाल मौजूद थे।

Share This Post