शिकायतकर्ता ने नाले में घटिया निर्माण सामग्री के प्रयोग का भी लगाया आरोप

गुहला/हरियाणा, संदीप शर्मा : गुहला चीका में लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों में भ्रष्टाचार चरम सीमा पर है जो सरकार की भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस की नीति पर सरेआम पलीता लगा रहे हैं। जानकारी देते हुए शिकायतकर्ता शीशपाल ने बताया कि लोक निर्माण विभाग के ठेकेदार द्वारा अधिकारियों से मिलीभगत करके गुहला चीका में फॊर लाइन के साथ-साथ बनाए जा रहे नाले के निर्माण में घटिया निर्माण सामग्री का प्रयोग किया जा रहा है और इसके साथ ही नाले की खुदाई की गई मिट्टी को 2500 डंपर के हिसाब से सरेआम बेचा जा रहा है। इस नाले की खुदाई भी 7 से 8 फुट की गई है जबकि नाला की चौड़ाई मात्र 3 फुट है इसकी खुदाई इसलिए इतनी अधिक की गई है ताकि मिट्टी को बेचा जा सके। शिकायतकर्ता शीशपाल ने कहा कि पूरे शहर में नाले की खुदाई तो कर दी गई है परंतु नाली का निर्माण कार्य को साथ-साथ नहीं किया जा रहा जिस कारण शहर में अव्यवस्था का माहौल फैल गया है और आने जाने वाले  लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इस कारण कई दुर्घटनाएं भी हो चुकी है।
शिकायतकर्ता ने कहा कि उसके पास लोक निर्माण विभाग के ठेकेदार द्वारा मिट्टी बेचने के पुख्ता प्रमाण और वीडियो मौजूद है। शिकायतकर्ता नहीं यहां तक बताया कि मिट्टी के लगभग 80 डंपर भारतीय जनता पार्टी के पार्षद को बेचे गए हैं। इस बारे उन्होंने सीएम विंडो में शिकायत दी है शिकायत देने के 17 दिन बीत जाने के बाद भी कोई कार्यवाही नहीं हुई। शिकायतकर्ता शीशपाल ने कहा कि यह सीएम विंडो किसी सफेद हाथी से कम नहीं है। गौरतलब है कि बीते दिनों ही एसडीएम गुहला शशि वसुंधरा ने भी शिकायत मिलने पर निर्माणाधीन नाले का निरीक्षण किया था जहां पर उन्हें भारी खामियां नजर आई जिस पर उन्होंने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को मौके पर बुलाकर जमकर लताड़ लगाई थी और मिट्टी बेचे जाने पर ठेकेदार के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए संबंधित उच्च अधिकारियों को आदेश दिए थे परंतु लोक निर्माण विभाग के उच्च अधिकारियों  ने एसडीएम के आदेशों को हवा हवाई कर दिया जो ठेकेदार और लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों की आपसी मिलीभगत को दर्शाता है। जब इस बारे लोक निर्माण विभाग के एक्सईएन वरुण कंसल से बात करना चाहा तो उन्होंने बार-बार फोन करने पर भी फोन नहीं उठाया। जब इस बारे में विभाग के एससी से बात करना चाहा तो उन्होंने भी फोन नहीं उठाया। जब इस बारे एस डी एम गुहला से बात की गई तो उन्होंने कहा की उनके संज्ञान में मामला है इस पर जल्द ही कार्रवाई करवाएंगे परंतु उन्होंने कैमरे के सामने कुछ भी कहने से इनकार कर दिया।

Share This Post