छात्र भी ले सकेंगे मंगाली महाविद्यालय में दाखिला

हिसार, राजेन्द्र अग्रवाल: हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने मंगाली में बनने वाले महाविद्यालय को-एड (सहशिक्षा) करने की मांग मंजूर कर ली है। महाविद्यालय का भवन 10 एकड़ से अधिक भूमि पर मंगाली मोहब्बतपुर में अगले साल बनकर तैयार हो जाएगा, जबकि महाविद्यालय के अस्थाई भवन में कक्षाएं इसी सत्र से आरम्भ होंगी। 
डिप्टी स्पीकर रणबीर गंगवा ने यह जानकारी देते हुए बताया कि मंगाली में बनने वाले महाविद्यालय को लेकर नलवा हलके के लोगों ने यह मांग की थी कि यह महाविद्यालय छात्र और छात्राओं दोनों के लिए बनाया जाए। इस मांग को उन्होंने मुख्यमंत्री मनोहर लाल के समक्ष रखा था, जिसे उन्होंने आज मंजूरी दे दी है। उन्होंने बताया कि मंगाली में इसी शैक्षणिक वर्ष से महाविद्यालय की अस्थाई कक्षाएं प्रारंभ हो जाएंगी। अस्थाई कक्षाओं के लिए प्राइमरी स्कूल के भवन का चयन किया गया है। महाविद्यालय में कला संकाय के साथ.साथ विज्ञान तथा वाणिज्य संकाय की कक्षाओं को आरंभ करने के प्रयास किए जा रहे हैं। डिप्टी स्पीकर ने कहा कि सरकार द्वारा यह घोषणा की गई थी कि प्रदेश में छात्र-छात्राओं को उच्च शिक्षा ग्रहण करने के लिए 20 किलोमीटर से ज्यादा दूर ना जाना पड़े इसके लिए अनेक स्थानों पर नए महाविद्यालय खोले जाएंगे। इसी कड़ी में मंगाली में महाविद्यालय आरंभ किया जा रहा है। मंगाली महाविद्यालय खुलने से नलवा हलके के विभिन्न गांवों के छात्र-छात्राओं को शिक्षा ग्रहण करने के लिए दूरदराज नहीं जाना पड़ेगा। उन्होंने नलवा हलके की विभिन्न ग्राम पंचायतों की तरफ से महाविद्यालय की मांग को मंजूर करने के लिए मुख्यमंत्री मनोहर लाल का आभार व्यक्त किया है। प्रशासन की सजगता से किसानों की फसलों का नुकसान सीमित हुआए खत्म हुआ टिड्डी दल पिछले दिनों नलवा हलके के विभिन्न गांवों में आए टिड्डी दल को लेकर सतर्कता बरतने और समय रहते सभी जरूरी कदम उठाने के लिए डिप्टी स्पीकर रणवीर गंगवा ने प्रशासन के अधिकारियों की कार्यप्रणाली की सराहना करते हुए उन्हें बधाई दी है। उन्होंने कहा कि प्रशासन की सजगता के चलते किसानों की फसलों का सीमित नुकसान हुआ है, जोकि काफी बड़ा नुकसान हो सकता था। उन्होंने कहा कि गावड़ सहित नलवा हलके के अन्य गांवों में प्रशासनिक अधिकारियों की तत्परता के चलते अधिकांश टिड्डी दल का खात्मा हो चुका है और फिलहाल के लिए यह खतरा टल गया है। उन्होंने आगे के लिए भी अधिकारियों से इसी प्रकार की सतर्कता बरतने को कहा है। डिप्टी स्पीकर ने कहा कि किसान भी अपने स्तर पर सतर्क रहे और टिड्डी दल की आगमन की सूचना तुरंत प्रशासनिक अधिकारियों के साथ सांझा करें।

Share This Post