चीन निर्मित लाइटों ने छीनी कुम्हारों के घरों की रोशनी

फतेहगढ़ साहिब, पंजाब/नगर संवाददाताः दीवाली के शुभ अवसर पर पिछली कई बार की तरह इस बार भी मिट्टि के बर्तन एवं दीये बनाने वाले कुम्हारों के चेहरे पर मायूसी दिख रही है। गौरतलब है कि जबसे चीन ने देसी बाजारों में नई-नई तरह की आकर्षक लाइटों को कम कीमत पर भारतीय बाजारों में उतारा है, तभी से मिट्टि के बर्तन बनाने वाले कुम्हारों के चेहरों पर मायूसी छाई हुई है और अब धीरे-धीरे उनका धंधा बिल्कुल चैपट होते जा रहे है। लोगों में भी श्रद्धा, भावना एवं भक्ति के प्रतीक दीपक के प्रति क्रेज लगभग खत्म है। चीन निर्मित लडि़यों ने जहां कुम्हारों को मात दी है, वहीं मोमबत्तियां बनाने वाली कई निजि कंपनियां भी इससे अछूती नहीं रही हैं। इस संदर्भ में फतेहगढ़ साहिब तथा आसपास के इलाकों के दुकानदारों राजेश कुमार बलवीर सह अमरजीत टकू पवन कुमार व बाॅबी ने बताया कि मोमबत्ती के प्रति ग्राहकों की डिमांड कम होने के कारण उन्होनें मोमबत्ती को कम की बेचने के लिए खरीदा है। और बाजार में दीये और मोमबत्ती की जगह अब चीन निर्मित लाइटों ने ले ली है। जहां दुकानदार दीये रखकर बेचा करते थे, वहां अब लडि़यों वाली लाइटें रखी हुई है।

Share This Post

Post Comment